मैं नही जानती अपने लिखने की खूबी... पर कोई कहता है मैं अच्छा लिखती हुं. मानवता सर्वोपरि