हिंदी बाल कथाएँ कहानियाँ मुफ्त में पढ़ेंंऔर PDF डाउनलोड करें

जंगल चला शहर होने - 13 (अंतिम भाग)
द्वारा Prabodh Kumar Govil

चर्चा जारी थी।तभी राजा साहब ने कहा - क्या ये सब समस्याएं इंसानों में नहीं आतीं? वो भी तो अलग अलग रंग, आकार और हैसियत के होते हैं? वो ...

जंगल चला शहर होने - 12
द्वारा Prabodh Kumar Govil

कारागार बेहद मज़बूत और विशाल बनाया गया था। जल्दी ही बन कर तैयार भी हो गया।लेकिन फ़िर एक गड़बड़ हुई। खोदा पहाड़ निकली चुहिया वाली कहावत ही चरितार्थ हो ...

जंगल चला शहर होने - 11
द्वारा Prabodh Kumar Govil

कुछ देर बाद जब सारे परिंदे तितर- बितर हो गए तो मायूस मोर भी मुंह लटका कर अपने घर चला आया। मांद महल का घेराव करके अपनी बात मनवाने ...

जंगल चला शहर होने - 10
द्वारा Prabodh Kumar Govil

नौ भालू थे।लाइन से एक के पीछे एक ट्रैक्टर लिए चले जा रहे थे। जो भी देखता, सोचता - ज़रूर कुछ बड़ा होने वाला है जंगल में। बात थी ...

जंगल चला शहर होने - 9
द्वारा Prabodh Kumar Govil

जैसे ही जिराफ़ को पता चला कि मॉल में बुल फाइट के लिए मैदान बनवा लेने पर हर साल बहुत सारा रुपया किराए के रूप में मिलेगा तो उसके ...

जंगल चला शहर होने - 8
द्वारा Prabodh Kumar Govil

रानी साहिबा ने अपने मांद महल के एक किनारे पर फूलों का एक बेहद खूबसूरत बगीचा बनवा लिया था जिसमें वो अक्सर चहलकदमी किया करती थीं।एक दिन वो सुबह ...

जंगल चला शहर होने - 7
द्वारा Prabodh Kumar Govil

पुलिस सूत्रों और जेब्रा ने काफ़ी देर तक ढूंढने की कोशिश की। इलाके का चप्पा चप्पा छान मारा पर भेड़िए का कुछ पता न चला।न जाने ज़मीन खा गई ...

जंगल चला शहर होने - 6
द्वारा Prabodh Kumar Govil

कंगारू हाथ में थैला लिए इधर उधर घूम रहा था।असल में जब वो हेलीकॉप्टर की सैर करने के बाद वापस लौट कर अपने घर पहुंचा तो उसने पत्नी को ...

दानी की कहानी
द्वारा Pranava Bharti

दानी की कहानी - ---------------- दानी इस बार बहुत दिनों बाद अपने नाती से मिल सकीं थीं | अधिकतर वे यहीं रहतीं थी लेकिन बीच में उनका मन हुआ ...

जंगल चला शहर होने - 5
द्वारा Prabodh Kumar Govil

चींटी केस हार गई। न्यायमूर्ति शार्क ने अपने फ़ैसले में कहा कि चींटी के हिप्पो पर लगाए गए सभी आरोप झूठे हैं। हिप्पो ने अध्यापकों की भर्ती में कोई ...

जंगल चला शहर होने - 4
द्वारा Prabodh Kumar Govil

सारे जंगल में खबर फ़ैल गई कि स्कूल में जल्दी ही टीचर भर्ती किए जायेंगे।हिप्पो जी ने साफ़ कह दिया कि बच्चे सर लोगों के बदले मैडम लोगों से ...

जंगल चला शहर होने - 3
द्वारा Prabodh Kumar Govil

लोमड़ी और खरगोश दंग रह गए। मिट्ठू ने क्या चाल चली थी। आदमी का धन किसी नदी में बहते हुए कचरे की तरह जंगल में आने लगा।तमाम चूहों और ...

जंगल चला शहर होने - 2
द्वारा Prabodh Kumar Govil

पोपटराज को अपनी उम्र पर भरोसा था। शेर कितना भी खतरनाक या गुस्सैल हो पर कम से कम मिट्ठू पोपटराज की आयु का ख्याल ज़रूर करेगा। पोपटराज ने तो ...

जंगल चला शहर होने - 1
द्वारा Prabodh Kumar Govil

नहीं नहीं!ऐसा नहीं था कि जंगल हमेशा चुपचाप रहता हो। बहुत आवाज़ें थीं वहां।सुबह होते ही जब सूरज निकलता तो पंछी चहचहाते। कोई कहता कि ये कलरव है, कोई ...

स्कूल के दिन
द्वारा Yayawargi (Divangi Joshi)

चलो एक अपनी बात बताती हूं कत में अपनी वो ही पुरानी स्कूल गई थी बोहोत से कहानियों के बिच एक किस्सा याद आ गया नौवीं कक्षा का। में ...

दानी की कहानी
द्वारा Pranava Bharti

दानी की कहानी -------------- बच्चों के साथ का दानी का सफ़र बड़े मज़े में कट रहा है | बच्चों के साथ दानी को सदा अपने बालपन की याद आ ...

बरगद का पेड़...
द्वारा Saroj Verma

रात का समय,एक बहुत ही घना जंगल..... किसी के रोने की आवाज़ आ रही थी, आवाज़ इतनी जोर जोर से आ रही थी कि सभी हैरान और परेशान होकर,बाहर ...

बचपन के क़िस्से
द्वारा Lalit Rathod

अभनपुर में मेरी माँ का एक सुंदर बचपन बीता है। उन्हें इस जगह को छोड़े वर्षों बीत चुके है, लेकिन सारा कुछ आज भी पहले जैसा है। यहाँ बचपन ...

बड़ों का कहना मानो
द्वारा Amrita shukla

रिजल्ट का चक्करराजू,अपना रिजल्ट तो दिखाओ,_जैसे ही राजू ने घर में कदम रखा उसकी बडी बहन मीरा ने कहा ।राजू पढने में बहुत अच्छा था।उसके पेपर भी अच्छे हुए ...

मेरी बेटी
द्वारा Ratna Pandey

चिराग और आशा ने एक ऐसे गरीब परिवार में जन्म लिया था, जहाँ पर लक्ष्मी जी का आशीर्वाद भले ही ना हो लेकिन माँ सरस्वती का आशीर्वाद उन्हें ज़रूर ...

दानी की कहानी
द्वारा Pranava Bharti

दानी की कहानी --------------- शायद --नहीं शायद नहीं , अवश्य ही यह हर हर समय होता है ,होता रहा है ,होता रहेगा | कुछ सत्य शाश्वत होते ...

दानी की कहानी
द्वारा Pranava Bharti

दानी की कहानी ----------------- दानी के बगीचे में रंग-बिरंगे फूल और उन फूलों में खेलते हम ...

दुआ में ताक़त
द्वारा Asha Saraswat

बाल कहानी- दुआ में ताक़त दुआओं में बहुत ताक़त होती ...

विवेक
द्वारा Asha Saraswat

बाल कहानी- विवेक एक नदी में मगरमच्छ रहता था, नदी में चारों तरफ़ उछाल भरता। ...

दानी की कहानी
द्वारा Pranava Bharti

दानी की कहानी --------------- दानी की बातें जैसे मलाई कोफ़्ते ! बड़े ही मस्त ! बच्चे खाने से तो क्या चटकारे लेते होंगे ...

शक्तिमान
द्वारा Priya pandey

शक्तिमान मैं तुम्हें चिट्ठी लिखना चाहती हूं, लेकिन मुझे तुम्हारे घर का पता नहीं मालूम । तुम्हारे लिए चिट्ठी लिख चुकी हूँ। जब भी खेलने जाती हूं जेब में ...

दानी की कहानी
द्वारा Pranava Bharti

दानी की कहानी -------------- दानी कुछ ज़्यादा ही संवेदनशील थीं | अपनी सब बातें भी बच्चों से साझा करतीं | ...

दानी की कहानी
द्वारा Pranava Bharti

दानी की कहानी -------------- दानी की ज़िंदगी में छोटे बच्चे बड़ी अहमियत रखते हैं | वैसे ये कोई नई बात नहीं है ...

गप्पी दास 
द्वारा Ratna Pandey

मधुबन सोसाइटी में रहने वाला बंटी होशियार होने के साथ बड़ा ही नटखट था । पाँच बच्चों की उनकी टोली थी, जिसमें युवान उसका घनिष्ठ मित्र था । टोली ...

दानी की कहानी ----आपको सोचना चाहिए न !
द्वारा Pranava Bharti

दानी की कहानी ----आपको सोचना चाहिए था न ! ------------------------------------------- दानी बच्चों के लिए कुछ न कुछ करने को हर समय तत्पर ...

गुल्लक 
द्वारा Ratna Pandey

बोनस, कैसा बोनस? किस बात का बोनस? त्यौहार है, तुम्हें मिठाई दी तो है मैंने और क्या चाहिए?

छोटा-सा पत्र 
द्वारा Ratna Pandey

आठ वर्ष की रूहानी बहुत ही चंचल, बहुत ही शैतान, लेकिन उतनी ही संवेदनशील भी थी। वह छोटी-से छोटी बात को भी गहराई तक समझती थी। रूहानी की माँ ...