×

होठ चुप रहे,आंखो ने बोल दिया,हम चुप रहे हमारा दिल आंसु बनकर बोल गया,की मेरा मुझसे रुठ,गया जो मिला उसे हम न अपनां मान सके,न उसे दिल मे जगा दे पाये

    • (40)
    • 441
    • (3)
    • 77
    • (38)
    • 605
    • (11)
    • 152
    • (6)
    • 182
    • (48)
    • 879
    • (7)
    • 131
    • (1)
    • 85
    • (4)
    • 74
    • (9)
    • 111