भरोसा काँच कि तरह होता है एक बार टूट जाए तो कितना भी जोड़ो चेहरा अलग अलग ही दिखाई देगा।।

    • (11)
    • 334