लौह नगरी भिलाई में पली-बढ़ी, मुंबई से होते हुए अब दिल्ली में। एमकॉम करने के बाद टाइम्स ऑफ इंडिया की प्रतिष्ठित पत्रिका धर्मयुग में डॉ धर्मवीर भारती के साथ करियर की शुरुआत। नौ साल वहां काम करने के बाद तीन साल टेलिविजन की दुनिया में सोनी चैनल के साथ जुड़ी। दिल्ली आई महिलाओं की हिंदी पत्रिका वनिता की संपादक बन कर। सात सालों तक वनिता का संपादन, अमर उजाला में फीचर संपादक और इन दिनों दैनिक हिंदुस्तान में एक्जीक्यूटिव एडिटर के साथ-साथ बच्चों की पत्रिका नंदन की संपादक। रचनात्मक करियर उपन्यास: आसपास से गुजरते हुए (राजकमल प्रकाशन), खानाबदोश ख्वाहिशें (सामयिक प्रकाशन), औरतें रोती नहीं (पेंग्विन प्रकाशन), एफ ओ जिंदगी (वाणी प्रकाशन) कहानी संग्रह: एक लड़की दस मुखौटे (सामयिक प्रकाशन), गीली छतरी (अनन्या प्रकाशन), रूह की प्यास (वाणी प्रकाशन) संस्मरणात्मक उपन्यास: बॉम्बे मेरी जान (वाणी प्रकाशन) संपादन: पहला फेसबुक सीरिज: 30 शेड्स ऑफ बेला, 30 दिन: तीस राइटर (अनन्या प्रकाशन) ऑडियो बुक्स: बाला और सनी, इश्क के रंग, कुछ लव जैसा बच्चों का कहानी संग्रह: कंप्यूटर बना कैलकुलेटर, लिटिल वर्ड्स बच्चों के लिए फिल्म: सोने की ऐनक सभी प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में कहानि

    • (4)
    • 104
    • (3)
    • 139
    • (5)
    • 158
    • (3)
    • 163
    • (2)
    • 206
    • (4)
    • 173
    • (4)
    • 225
    • (4)
    • 231
    • (3)
    • 226
    • (2)
    • 181