अब तक तीन पुस्तकें स्वतंत्र रूप से प्रकाशित हो चुकी हैं। तीन कविता संग्रहों सहित कई पुस्तकों का स्वतंत्र रूप से संपादन। कुछ कविताएं साहित्य अकादमी, दिल्ली द्वारा प्रकाशित कविता संग्रह ‘कविता में दिल्ली’ तथा सिग्नेचर पोयम ‘माहवारी’ का अंग्रेज़ी अनुवाद इन्हीं के ‘इंग्लिश जनरल’ में संग्रहीत। सातवीं कक्षा की पाठ्य पुस्तक ‘वितान’ में भी एक आलेख सम्मिलित। देश के कई सम्मानित हिंदी प्रकाशन संस्थानों के संपादकीय विभाग में सहायक संपादक सहित विविध भूमिकाओं में सक्रिय भागीदारी। कुछ समय तक आकाशवाणी दिल्ली से भी जुड़ाव। वर्ष 1997 से रचनात्मक लेखन में सक्रिय। समय-समय पर कई रचनाएं राष्ट्रीय स्तर की पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित। कुछ रचनाओं के अंग्रेज़ी, पंजाबी, बांग्ला, मराठी और मलयालम अनुवाद। सिग्नेचर पोयम ‘माहवारी’ पर इसी शीर्षक से फोर पिलर्स प्रॉडक्शन हाउस द्वारा एक शॉर्ट फिल्म का निर्माण तथा स्वयंसेवी संस्था ‘सृजन’ द्वारा इसी पोयम पर एक नुक्कड़ नाटक का निर्माण व निरंतर मंचन। कई वेबसाइट्स पर अनेक रचनाएं उपलब्ध। देश भर में आयोजित अनेक गरिमापूर्ण मंचों व टीवी चैनल्स पर काव्य समारोहों में सहभागिता। ज़ी सलाम पर इनके व्यक्तित्व व कृतित्व पर आधारित एक विशेष साक्षात्कार ‘जहान-ए-निस्वां’ कार्यक्रम में प्रसारित। हरिद्वार प्रैस क्लव द्वारा गोल्ड मैडल, शहीद भगत सिंह संस्था का यंग ब्रिगेड अवॉर्ड, वुड्स इंडिया द्वारा नारी गौरव सम्मान सहित कई पुरस्कार व सम्मान।

    • (4)
    • 91