किसी की आह पर वाह करने का , दस्तूर है दुनिया का । जख्म पर नमक छिड़कने का , शौक है दुनिया का ।। गलती किसी की नहीं है शायद , यह तो चलन है दुनिया का । पर हार जाना मेरा मुश्किलों से , यह फितूर है दुनिया का ।। नेहा अग्रवाल नेह

    • (4)
    • 239
    • (3)
    • 441
    • (8)
    • 452
    • (24)
    • 1.5k
    • (8)
    • 598
    • (20)
    • 1.2k
    • (6)
    • 649
    • (24)
    • 581