श्री गणेशाय नम: दैनिक पंचांग शिव महादेव महाकाल भोलेनाथ शंकर शंभु आपको ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का बारंबार प्रणामनमननमस्कार है यह है आज का पंचांग २२- अप्रैल-२०१९ 22 - Apr - 2019 समस्त भारत के लिए हिंदू पंचांग सोमवार तिथि तृतीया 11:26:50 नक्षत्र अनुराधा 16:46:08 करण : विष्टि 11:26:50 बव 23:10:19 पक्ष कृष्ण योग वरियान 25:55:32 वार सोमवार सूर्य व चन्द्र से संबंधित गणनाएँ सूर्योदय 05:52:15 चन्द्रोदय 21:55:00

राम दूत अतुलित बल धामा अंजनि पुत्र पवनसुत नामा महावीर विक्रम बजरंगी कुमति निवार सुमति के संगी कंचन वरण विराज सबेसा कानन कुंडल कुंचित केसा- ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़

और पढ़े

श्री हनुमान चालीसा
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी आपको बारंबार प्रणाम नमन नमस्कार है ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का आज की हनुमान चालीसा... ब्रह्मदत्त
|| दोहा।।श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि ।
बरनउँ रघुबर विमल जसु, जो दायक फल चारि ।।
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार । ।
बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस विकार ।।
|| चौपाई ॥
जय हनुमान ज्ञान गुण सागर, जय कपीस तिहुँ लोक उजागर ।। १ ।।
राम दूत अतुलित बल धामा,अंजनी-पुत्र पवनसुत नामा ।। २ ।।महावीर विक्रम बजरंगी, कुमति निवार सुमति के संगी ।। ३ ।।कंचन बरन बिराज सुबेसा, कानन कुण्डल कुंचित केसा ।। ४ ।।हाथ व्रज औ ध्वजा बिराजै, काँधे मूंज जनेउ साजै ॥ ५ ॥
शंकर सुवन केसरीनंदन, तेज प्रताप महा जग बंदन ।। ६ ।।विद्यावान गुनी अति चातुर, राम काज करिबे को आतुर ।। ७ ।।
प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया, राम लखन सीता मन बसिया ।। ८ ।।सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा, विकट रूप धरि लंक जरावा ।। ९ ।।भीम रूप धरि असुर सँहारे, रामचन्द्र के काज सँवारे ।। १० ।।लाय संजीवन लखन जियाये, श्री रघुबीर हरषि उर लाये || ११ ||रघुपति कीन्हि बहुत बड़ाई, तुम मम प्रिय भरत सम भाई ।। १२ ।।
सहस बदन तुम्हरो यस गावै, अस कहि श्रीपति कण्ठ लगावै ।। १३ ।।।सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा, नारद सारद सहित अहीसा ।। १४ ।।जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते, कबि कोबिद कहि सके कहाँ ते ।। १५ ।।तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा, राम मिलाय राज पद दीन्हा || १६ ।।तुम्हरो मन्त्र विभीषण माना, लंकेश्वर भए सब जग जाना ।। १७ ।।जुग सहस्र जोजन पर भानु, लील्यो ताहि मधुर फल जानू ।। १८ ।।प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं, जलधि लाँघि गये अचरज नाहीं ।। १९ ।।
दुर्गम काज जगत के जेते, सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते ।। २० ।। ।राम दुआरे तुम रखवारे, होत न आज्ञा बिनु पैसारे ।। २१ ।।सब सुख लहै तुम्हारी सरना, तुम रक्षक काहू को डर ना ।। २२ ।।।आपन तेज सम्हारो आपै, तीनों लोक हाँक तें काँपै ।। २३ ।।भूत पिशाच निकट नहिं आवै, महावीर जब नाम सुनावै ।। २४ ।।।नासै रोग हरै सब पीरा, जपत निरन्तर हनुमत बीरा || २५ ।।संकट तें हनुमान छुड़ावै, मन क्रम बचन ध्यान जो लावै ।। २६ ।।।सब पर राम तपस्वी राजा, तिन के काज सकल तुम साजा ।। २७ ।।।और मनोरथ जो कोई लावै, सोई अमित जीवन फल पावै ।। २८ ।।।चारों जुग परताप तुम्हारा, है परसिद्ध जगत उजियारा || २९ ।।साधु सन्त के तुम रखवारे, असुर निकंदन राम दुलारे ।। ३० ।।।
अष्टसिद्धि नौ निधि के दाता, अस वर दीन जानकी माता ।। ३१ ।।
राम रसायन तुम्हरे पासा, सदा रहो रघुपति के दासा ।। ३२ ।।।
तुम्हरे भजन राम को पावै, जन्म जन्म के दुख बिसरावै ।। ३३ ।।
अन्त काल रघुपति पुर जाई, जहाँ जन्म हरिभक्त कहाई ।। ३४ ।।और देवता चित्त न धरई, हनमत सेड सर्व सख करई ।। ३५ ।।
संकट कटै मिटै सब पीरा, जो सुमिरै हनुमत बलबीरा || ३६ ।।।
जय जय जय हनुमान गोसाईं, कृपा करहु गुरुदेव की नाई ।। ३७
ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़

और पढ़े

🚩श्री गणेशाय नम:🚩
📜 दैनिक पंचांग 📜
☀ १८ -फरवरी माह का अठ्ठारहवें दिन मंगलवार में स्वागत है आपका भगवान श्री राम बजरंगबली हनुमान जी आपको ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का बारंबार प्रणाम नमन नमस्कार है आज मंगलवार है
☀ 18 - Feb - 2020
☀ Hapur, India
☀ हापुड़ एवं समस्त भारतीयों के लिए तैयार है आज का शुभ पंचांग मंगलवार
☀ पंचांग मंगलवार
🔅 तिथि दशमी 14:34:29
🔅 नक्षत्र मूल 30:06:46
🔅 करण :
🔅विष्टि 14:34:29
🔅बव 26:45:21
🔅 पक्ष कृष्ण
🔅 योग हर्शण 08:42:18
🔅 वार मंगलवार
☀ सूर्य व चन्द्र से संबंधित गणनाएँ
🔅 सूर्योदय 06:55:19
🔅 चन्द्रोदय 27:47:00
🔅 चन्द्र राशि धनु
🔅 सूर्यास्त 18:10:53
🔅 चन्द्रास्त 13:26:59
🔅 ऋतु शिशिर
☀ हिन्दू मास एवं वर्ष
🔅 शक सम्वत 1941 विकारी
🔅 कलि सम्वत 5121
🔅 दिन काल 11:15:33
🔅 विक्रम सम्वत 2076
🔅 मास अमांत माघ
🔅 मास पूर्णिमांत फाल्गुन
☀ शुभ और अशुभ समय
☀ शुभ समय
🔅 अभिजित 12:10:34 - 12:55:37
☀ अशुभ समय
🔅 दुष्टमुहूर्त 09:10:25 - 09:55:28
🔅 कंटक 07:40:21 - 08:25:23
🔅 यमघण्ट 10:40:30 - 11:25:32
🔅 राहु काल 15:21:59 - 16:46:26
🔅 कुलिक 13:40:39 - 14:25:41
🔅 कालवेला या अर्द्धयाम 09:10:25 - 09:55:28
🔅 यमगण्ड 09:44:12 - 11:08:39
🔅 गुलिक काल 12:33:05 - 13:57:32
☀ दिशा शूल
🔅 दिशा शूल उत्तर
☀ चन्द्रबल और ताराबल
☀ ताराबल
🔅 अश्विनी, भरणी, कृत्तिका, मृगशीर्षा, पुनर्वसु, आश्लेषा, मघा, पूर्वा फाल्गुनी, उत्तर फाल्गुनी, चित्रा, विशाखा, ज्येष्ठा, मूल, पूर्वाषाढा, उत्तराषाढा, धनिष्ठा, पूर्वभाद्रपदा, रेवती
☀ चन्द्रबल
🔅 मिथुन, कर्क, तुला, धनु, कुम्भ, मीन
☀ पंचांग के अंत में भगवान श्री राम एवं बजरंगबली हनुमान जी आपको बारंबार प्रणाम नमन नमस्कार है ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का... नमस्कार स्वीकार करें

और पढ़े

व्रत-त्योहार फरवरी माह के ब्रह्मदत्त
१शनि: अचला/रथ सप्तमी, माँ नर्मदा जन्मोत्सव
२ रवि: भीष्माष्टमी, दुर्गाष्टमी
३ सोम: महानन्दा नवमी
५ बुध: जया/अजा एकादशी
६ बृहस्पति: भीष्मा द्वादशी
७ शुक्र: प्रदोष व्रत, डेसर्ट उत्सव (जैसलमेर)
९ रवि: माघी पूर्णिमा, रविदास जयंती
१२ बुध: संकष्टी चतुर्थी
१३ बृहस्पति: श्री कृष्ण देवराया जयंति, कुम्भ संक्रांति
१४ शुक्र: वेलेन्टाइन्स डे
१६ रवि: सीताष्टमी, कालाष्टमी
१८ मंगल: स्वामी दयानंद सरस्वती जयंती
१९ बुधः विजया एकादशी, छत्रपती शिवाजी जयंती
२० बृहस्पति: प्रदोष व्रत
२१ शुक्र: महा शिवरात्रि
२५ मंगल: रामकृष्ण परमहंस जयंती, फुलरिया दोज
२८ शुक्र: राष्ट्रीय विज्ञान दिवस
ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़

और पढ़े

संध्या वंदन सोमवार ब्रह्मदत्त
महा मृत्युंजय मंत्र-शिव महादेव महाकाल भोलेनाथ शंकर शंभू सोमवार- संध्या... ब्रह्मदत्त
आज का शुभ सोमवार शुभ संध्या वंदन मंत्र
महा मृत्युंजय मंत्र-ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगंधिम
पुष्टि वर्धनम उर्वारुकमिवबंधनान मृत्योर मुक्षीय मामृतात ||-ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़

और पढ़े

इश्क का डर से दूर दूर तक भी
कोई वास्ता नहीं होता.....
ये उधर भी कदम रखता है
जहाँ कोई रास्ता नही होता.....
सुना है इश्क़ एक आग का🔥 दरिया है---
इसे करने के बाद मिटना तो निश्चित है....
चाहे खोकर.... चाहे पाकर....
इसीलिए कहा है ....
इसकी मंजिल का कोई ठिकाना नहीं होता
इसके लिए कोई अपना कोई बेगाना नहीं होता
न जाने क्यों कब हो जाए किस से...
न जाने कब आ जाए किस पर
इसलिए तो कहते हैं ....
दिल का कोई ठिकाना नहीं होता....
जब चाहतों पर उतर आए ये...
फिर इसको समझाना वाजिब नहीं होता....
कोई कितना भी कर ले जतन...
करता है अपनी बस मनमानी ये,
इस पर किसी की बातों का....
असर या वशर का वज्र नहीं होता....
क्योंकि इश्क बेफिक्र है.....
इसको कोई फिकर नहीं होता....
मौत को भी गले लगा लेता है ये... क्योंकि इसको मौत का भी डर नहीं होता.....
ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़

और पढ़े

महा मृत्युंजय मंत्र
शिव महादेव महाकाल भोलेनाथ शंकर शंभू सोमवार ब्रह्मदत्त
::::::::::::::::::::::::::::::::::
आज का शुभ सोमवार मंत्र
*** महा मृत्युंजय मंत्र **
ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगंधिम
पुष्टि वर्धनम उर्वारुकमिव
बंधनान मृत्योर मुक्षीय मा
अमृतात ||
ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़

और पढ़े

शुभ दिन सोमवार 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
अच्छे मित्र, 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
अच्छे रिश्तेदार, 💐💐💐💐💐💐💐
और अच्छे विचार, 🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵
जिसके पास होते हैं,🌼🌼🌼🌼🌼🌼🌼
उसे दुनिया की कोई भी ताकत हरा नहीं सकती...
Good, 💓💓💓💓💓💓💓
MORNING 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़↔️↔️↔️↔️↔️↔️↔️
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

और पढ़े

🚩श्री गणेशाय नम:🚩
📜 दैनिक पंचांग 📜
☀ १७ - फरवरी -दिन सोमवार और सन २०२० भगवान शिव महादेव महाकाल भोलेनाथ शंकर शंभू सोमवार ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का नमस्कार स्वीकार करें
☀ 17 - Feb - 2020
☀ Hapur, India
☀ हापुड़ एवं समस्त भारतीयों के लिए तैयार है आज का शुभ पंचांग सोमवार
☀ पंचांग सोमवार
🔅 तिथि नवमी 14:37:25
🔅 नक्षत्र ज्येष्ठा 29:14:12
🔅 करण :
🔅गर 14:37:25
🔅वणिज 26:31:42
🔅 पक्ष कृष्ण
🔅 योग व्याघात 10:01:14
🔅 वार सोमवार
☀ सूर्य व चन्द्र से संबंधित गणनाएँ
🔅 सूर्योदय 06:56:10
🔅 चन्द्रोदय 26:49:59
🔅 चन्द्र राशि वृश्चिक - 29:14:12 तक
🔅 सूर्यास्त 18:10:09
🔅 चन्द्रास्त 12:39:00
🔅 ऋतु शिशिर
☀ हिन्दू मास एवं वर्ष
🔅 शक सम्वत 1941 विकारी
🔅 कलि सम्वत 5121
🔅 दिन काल 11:13:58
🔅 विक्रम सम्वत 2076
🔅 मास अमांत माघ
🔅 मास पूर्णिमांत फाल्गुन
☀ शुभ और अशुभ समय
☀ शुभ समय
🔅 अभिजित 12:10:42 - 12:55:37
☀ अशुभ समय
🔅 दुष्टमुहूर्त :
🔅12:55:37 - 🔅13:40:33
🔅15:10:25 - 🔅15:55:21
🔅 कंटक 09:10:58 - 09:55:54
🔅 यमघण्ट 12:10:42 - 12:55:37
🔅 राहु काल 08:20:25 - 09:44:40
🔅 कुलिक 15:10:25 - 15:55:21
🔅 कालवेला या अर्द्धयाम 10:40:50 - 11:25:46
🔅 यमगण्ड 11:08:55 - 12:33:10
🔅 गुलिक काल 13:57:24 - 15:21:39
☀ दिशा शूल
🔅 दिशा शूल पूर्व
☀ चन्द्रबल और ताराबल
☀ ताराबल
🔅 अश्विनी, भरणी, रोहिणी, आद्रा, पुष्य, आश्लेषा, मघा, पूर्वा फाल्गुनी, हस्त, स्वाति, अनुराधा, ज्येष्ठा, मूल, पूर्वाषाढा, श्रवण, शतभिषा, उत्तरभाद्रपदा, रेवती
☀ चन्द्रबल
🔅 वृषभ, मिथुन, कन्या, वृश्चिक, मकर, कुम्भ
☀ पंचांग के अंत में भगवान शिव महादेव महाकाल भोलेनाथ शंकर शंभू आपको ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का बारंबार प्रणाम नमन नमस्कार है आज सोमवार है

और पढ़े

🌄शुभ संध्या वंदन ब्रह्मदत्त🌄
हम जब किसी से मिलते हैं तो हाथ जोड़कर नमस्ते अथवा
'नमस्कार करते हैं,वैज्ञानिक तर्क- जब सभी उंगलियों के
शीर्ष एक दूसरे के संपर्क में आते हैं और उन पर दबाव पड़ता है।
एक्यूप्रेशर के कारण उसका सीधा असर हमारी आंखों,
कानों और दिमाग पर होता है,ताकि सामने वाले
व्यक्ति को हम लंबे समय तक याद रख सकें। ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़
न जाने क्यों इतनी जल्दी यह रात
आ जाती है , बातो ही बातो
में आपकी बात आ जाती है ,
हम तो आपको गुड नाईट कहना
चाहते है , लेकिन न जाने
क्यों आपकी याद आ जाती है.ब्रह्मदत्त

और पढ़े