मेरा नाम विस्वमोहन है मुझे सायरी लीखना और पडना अछा लगता है न्ये लोगो से दोस्ती करना मूझे पसन्द है

vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी धन्यवाद
2 साल पहले
vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 साल पहले

बस आपसे मोहब्बत करना है
आपके दिल में ही बस रहना है
आप का रूप निराला लगता है
जन्नत से भी प्यारा लगता है
जैसे फूलों में खुशबू हमेशा रहता है
आपके दिल में दिलबर जानी रहता है
mohanvishav@gmail.com

-vishavmohan gaur

और पढ़े
vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी रोमांस
2 साल पहले
vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 साल पहले
vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
2 साल पहले

मोहब्बत का प्यार किसी दुआ से कम नहीं होता,
चाहे मोहब्बत दूर भी हो तो गम हमे नहीं होता
अक्सर मोहब्बत दूरियों से मजबुत जाते हैं हमारे
पर मोहब्बत भरा प्यार हमशे कभी कम नहीं होता
www.vishavmohan.com

और पढ़े
vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
2 साल पहले

♥♥♥♥♥
खुशी इतना है की
कोई भी नराज ना हो हमसे
नज़र अंदाज़ करने वालों से नजर हम भी
नहीं मिलाते नजरें दोस्तो
www.vishavmohan.com
#निषेध

और पढ़े
vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 साल पहले

सूर्यवीर हैं वह गम हमारे जो हर पल साथ निभाते हैं
खुशियां तो चंद लम्हे है आकर दगा देकर चले जाते हैं
सूर्यवीर है नाम तुम्हारा दुख में सुख का एहसास दिलाते हैं
शुक्रिया करूं मैं तुम्हारा कैसे अपना होने का अहसास दिलाते हैं
#शूरवीर

और पढ़े
vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 साल पहले

केवल आपके मुस्कुराने से दिल को खुशी मिल जाती है
आपके केवल आने से बागों में कली सी खिल जाती है
आपकी सूरत ही केवल बस इस दिल को ही भाती है
सारे जमाने में केवल बस आप की ही याद सताती
www.vishavmohan.com

और पढ़े
vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 साल पहले

केवल आपके मुस्कुराने से दिल को खुशी मिल जाती है
आपके केवल आने से बागों में कली सी खिल जाती है
आपकी सूरत ही केवल बस इस दिल को ही भाती है
सारे जमाने में केवल बस आप की ही याद सताती है
#केवल

और पढ़े
vishavmohan gaur कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 साल पहले

आप के एक मुस्कुरा के बात ना करने से
हमेसा आखो मे नमी ही रहती है
चाहे जीतना भी खुश दिखता हूँ उपर से पर
दिल से हमेसा दुखी ही रहता हैं
सुभ प्रभात

और पढ़े