Hey, I am reading on Matrubharti!

भूलने की कोशिश करते हो आखिर इतना क्यों सहते हो,
डुब रहे हो और बहते हो,
दरिया किनारे क्युं रहते हो.

-गुलज़ार

और पढ़े

तुम 'खास' थे इसीलिए लड़े तुमसे,...

पराये होते तो हँस कर जाने देते.

कभी कभी जिंदगी में एक छोटा सा बदलाव भी एक बड़ी कामयाबी का हिस्सा बन जाता है.

बात हुई थी उनसे तो 'हँस' कर हुई थी,
हमें क्या पता था कि वो मुस्कराकर 'विदा' हो रहे है.

तेरे पते पर एक चिठ्ठी डाली है मैने,
युं फिर से एक उम्मीद पाली है मैने.

क़िताब-ए-दिल का कोई भी स़फा ख़ाली नहीं होता,

दोस्त वहाँ भी हाल पढ़ लेते है, जहाँ कुछ लिखा नहीं होता!!!

छोड़कर गये थे जो बसाने दुनिया नयी,

राहे में उनसे फिर मुलाकात हो गई.!!

हमारावाला प्यार कहां रखते हो?

मेरे घर में या तुम्हारे ?

कहीं लोगों से मुलाकात दिन भर मे हो जाती है, लेकिन

फिर भी उसकी याद एक अलग ही 'तरफ' ले जाती है.

छूपे छूपे से रहते है
सरेआम नही हुआ करते,

कुछ रिश्ते बस 'एहसास' होते है
उनके 'नाम' नही हुआ करते.