लफ्जो से ना अंदाजा लगाओ मेरे किरदार का... ये सिर्फ मेरे अलफाज़ है,, मेरे जज्बात नही...

चले आते हे युही
इजाजत के बगैर,

अब ख्वाबो पर भी,
मेरा इख्तयार कहां !!

♡ तमन्ना ♡

માફક આવી ગઈ છે 
ભાષા આ લાગણીની,

શબ્દો હવે બિનજરૂરી 
થઈ રહ્યાં છે તારી સાથે

♡ તમન્ના ♡

બહારના કોલાહલ માં પણ,
એક નિરવ શાંતિ વરતાય છે,,

ભીતરના અંતર મનમાં
તારો જ પડઘો સંભળાય છે...

♡ તમન્ના ♡

share

दूरियाँ, मजबूरियाँ,
खामोशियाँ, बेबाकियाँ,,

लाज़मी है मोहब्बत में,
इनका भी होना...

यादों को तेरी कुछ
इस तरह पिरोया है,

मैंने तुझको तुझसे चुराकर
अपने ख्वाबो मे संजोया है..


♡ तमन्ना ♡

पत्थरदिल से दिल लगाया,
तो अब शिकायत क्या करे,,

जख्म भी अपने, दर्द भी अपना,,
तो फिर नुमाईश क्या करे..

♡ तमन्ना ♡

और पढ़े

में तेरी पतंग, तु मेरा मांझा,
रहे रिश्ता अपना यु ही सांझा...

♡ तमन्ना ♡

फना हो जाये एक दूसरे के लिए
दिलों में ऐसे अब जज्बात कहां !!

कलम से क्या शिकवा करे अब,
दर्द बया कर सके ऐसे अल्फाज़ कहां...

♡ तमन्ना ♡

और पढ़े

સંઘર્યો છે બસ આજ એક કાટમાળ,

પ્રેમ, હૂંફ અને લાગણીનો ભરમાળ,,

સમાઈ જઈશ આમ જ તારી કવિતામાં,

બસ તુ મને એકવાર શબ્દો માં ઢાળ...

और पढ़े