मैं तारा गुप्ता लखनऊ (उ.प्र.) से‌ मेरी लेखन की मूल विद्या कविता व, गीत एवं कहानी हैं .मेरी रचनाएं अनेक पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं. वर्तमान में मैं सद्ग्रहणी होने के साथ -साथ सहित्यिक गति विधियों के साथ ही सामाजिक गतविधियों में भी संलग्न हूं.

Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

इतनी पीडा दी है मुझको जितनी सागर में गहराई हर पग पर शूल बिखेरे
उन पर चलकर मैंने अपनी राह बनाई

-Tara Gupta

Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

हो गई सारी इच्छा पूरी, नहीं रही है तृष्णा प्यासी। एक तुम्हारे आ जाने से, दूर हो गई गहन उदासी।।

-Tara Gupta

Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

खुशियों के गुलाब मुरझाए बची वेदना शूल।
उजड़ गया सपनों का सावन बही हवा
प्रतिकूल।

-Tara Gupta

Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

थकी हुई बोझिल पलकों में
घिर आई पतझड़ की शाम,
शीश छुपा मेरे आंचल में सूनापन
लेता विश्राम

-Tara Gupta

Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

हिंद महासागर भारत का चरण पखारता।
हिमगिरी चमकीला कोष मां पर न्योछारता।।
#चमकीला

-Tara Gupta

Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

गान तुम्हारा ,छंद हमारे जुड़ जाएं तो स्पंदन
मन से मन जुड़ने का नाम जीवन का प्यारा बंधन

-Tara Gupta

Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

आंसू पोंछ दिए पलकों से अब रखती मुस्कान
निराली।
लिख ली मैंने दिल पर अपने प्यारी कविता पीड़ा वाली ।।

-Tara Gupta

और पढ़े
Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

ऐसी तुमने जलन मुझे दी अब जीवन भर जलना होगा
केवल यादों के सम्बल पर ही जीवन जीना होगा।।

-Tara Gupta

Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

दिल के हर पन्ने पर,
कुछ न कुछ लिखा होता है ।
कुछ खुशियां, गमों
का
लेखा-जोखा होता है।।

-Tara Gupta

Tara Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

रंग पीला दोस्ती का हक अदा करता है
इस रंग की बिना इंद्रधनुष भी नहीं निकलता है।।

-Tara Gupta