Hey, I am on Matrubharti!

Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी सुविचार
2 सप्ताह पहले

#मंदिर
उसका पता ढूँढ़ रहा इंसान
मंदिर मस्जिद चर्च गुरुद्वारे
यहाँ वहाँ क्यों ढूंढ़े उसको
वो तो तेरे भीतर प्यारे।

और पढ़े
Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कहानी
2 सप्ताह पहले

Sunita Agarwal लिखित कहानी "मनोविकृति" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19894970/manoviktiti

Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कहानी
3 सप्ताह पहले

Sunita Agarwal लिखित कहानी "कटु स्मृतियाँ" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19894525/katu-smritiyan

Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
3 सप्ताह पहले

#झगड़ा
लड़ना झगड़ना रूठना मनाना
इन्हीं से तो प्यार बढ़ता है
इंसान ही तो इंसान से लड़ता झगड़ता रूठता मनाता है।
जो सिर्फ रूठना ही जानता है
वो इंसान नहीं भगवान बन जाता है
फिर ऐसे भगवान के साथ
जीना दुश्वार हो जाता है।
खूब लड़ो झगड़ो रूठो मनाओ
कुछ अपनी कहो कुछ उनकी सुनो
इंसान हो इंसान की तरह जीने दो और जिंदगी बिताओ।

और पढ़े
Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
1 महीना पहले

#कमी
कुछ तो कमी है जिंदगी में
वर्ना इतनी बेचैनी न रहती
खुशियाँ थोड़ी कम ही सही
पर सुकून भरी जिंदगी तो होती।

और पढ़े
Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी सुविचार
2 महीना पहले

#संकट
संकट की घड़ी है
विपदा आन पड़ी है
कर लो सुमिरन श्रीराम का
श्रीरामजी की तो महिमा बड़ी है।

और पढ़े
Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी सुविचार
2 महीना पहले

Sunita Agarwal लिखित कहानी "हैवानियत" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19891142/haiwaniyat

Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
2 महीना पहले

#लाभ
हानि लाभ जन्म मरण
सब ईश्वर के हाथ है
हमारे हाथ कुछ भी नहीं
हम तो बस उसके हाथ
की कठपुतलियां हैं
जैसे वो नचाता है नाचते हैं।

और पढ़े
Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कहानी
2 महीना पहले

Sunita Agarwal लिखित कहानी "तलाक-शुदा" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19890398/talaak-shuda

Sunita Agarwal कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

#मृत
अब दिलों में प्रेम कहाँ है
रिश्तों में अब वो जज्बात कहाँ
समझदारी का आलम यह है कि
भावनाएँ लगभग मृत हो गई हैं।

और पढ़े