Hey, I am reading on Matrubharti!

"वो गुजरी थी....!"
(प्रेम कविता)

वो गुजरी थी, हां गुजरी थी ना मेरे कनखियों के किनारे से।

उसकी चाल लगी जैसे "अंगारे" से।

मैने पीछे मुड़कर देखा, हां देखा ना पर वो चली गई थी किसी समय के "सुरंग" में!

पहली बार ऐसा महसूस हुआ जैसे कठोर से दिल का जलती हुई मोम की तरह पिघल जाना।

पहली बार ऐसा प्रतीत हुआ मानो आग का पानी से मिलन होना!

वो फिर दिखी? हां दिखी ना मेरे गहरे से समन्दर वाले ख्यालों में "जलपरी" की तरह।

मैने उससे अपनी इच्छाएं मांगी, मांगी ना पर वो चली गई मेरे सुंदर से ख्यालों के कांच की तरह टूटने से!

वो फिर दिखी, हां दिखी ना, जैसे ईद में चांद का दिखना।

बिन बारिश में भी मिट्टी की खुशबूओं का फैलना!

उसने मुझसे आंखे मिलाई, हां मिलाई ना जैसे तपते हुए सूरज को आंखे मूंद कर देखना।

ऐसा लगा मानो, उड़ते हुए पतंगों का हवाओं से मिलना!

ऐसा प्रतीत हुआ जैसे किसी की याद में हिचकियां होना।

हम दोनों हंसे, हां हंसे ना, मानो किसी नई प्रेम कहानी की शुरूआत होना!

(प्रेम कविता)

#kavyotsav2 #kavyotsav #प्रेम #काव्योत्सव #काव्योत्सव2

और पढ़े

"मैं फिर से "बच्चा" बनना चाहता हूं!"

समय के पंखों को ओढ़कर मैं सपनों के "आकाशगंगा" में उड़ना चाहता हूं, क्योंकि मैं फिर से "बच्चा" बनना चाहता हूं!

ना कल की कोई फिक्र, ना दिल में औरों के लिए 'छल' का कोई जिक्र,

ना रंग से, ना पैसों से, ना कोई जातपात से, बनाए जाते मित्र खेल-खेल में!

भूख की तो चिंता छोड़ो, खा लिया करते थे उन मिट्टी से बने "टीलों" को...!

पाठशाला था जैसे दूसरा "घर" तो वहां के शिक्षक थे हमारा दूसरा "परिवार"।

शिक्षकों के ना आने के कारण होती कक्षा में "वर्ग-व्यवस्था", तो पूरे चरम पर आ जाती हमारी "बाल्यावस्था"!

बारिश में मिट्टी की सोंधी खुशबू को मानो शरीर पर "इत्र" की तरह मल देते, कागज़ की नाव में कभी अपने "मन" को भी तैरा लिया करते थे।

पाठशाला की होती अगर आखिरी "परीक्षा", तो उस दिन ऐसा प्रतीत होता मानो जीत ली हो कोई कठिन सी "प्रतिस्पर्धा" !

गर्मियों की छुट्टियों में "ट्वेल्थ मेन" की तरह शामिल कूलर का फिर से गूंजना, गोले वाले की टीन-टीन सुनकर तेज़ी से उसकी ओर दौड़ना और दिनभर खेलते रहना....!

डोरेमोन की "टाइम मशीन" में बैठकर फिर से उन संकरी गलियों में क्रिकेट खेलना चाहता हूं, क्योंकि मैं फिर से "बच्चा" बनना चाहता हूं!

मां की गोद "स्वर्ग", तो पापा के दिए दो रुपए जितनी भी 'पॉकेट मनी' से मानो दुनिया खरीद ले ऐसी होती "हसरत"!

भाई की पिटाई पर हसना और बहन की रक्षा में बड़ों से भी उलझ जाना!

बचपन के "साम्राज्य" में हुआ करते थे राजा, पर अब जवानी में भरा हुआ "मन" रूपी तालाब भी लगता है सूखा।

मैं "शकलक बूम बूम" वाली पेंसिल से बचपन की "अदृश्य" हुई यादें बनाना चाहता हूं, क्योंकि मैं फिर से "बच्चा" बनना चाहता हूं।

कभी "बस्तों" में किताबों का वज़न भी हल्का लगता, पर अब तो लोगों की उम्मीदों के भार ऐसे लगते मानों किसी "गधे" पर सामान है ढोया !

कभी "कागज़" के जहाजों से तारों को तोड़ लाया करते थे, अब तो ये तारें टूटने का नाम ही नहीं लेते !

मैं विक्रम के साहस से जवानी की "मिथ्या" को सुलझाना और बेताल के उलझे हुए "सवालों" में फिर से उलझना चाहता हूं, क्योंकि मैं फिर से "बच्चा" बनना चाहता हूं!

समय के पंखों को ओढ़कर मैं सपनों के "आकाशगंगा" में उड़ना चाहता हूं, क्योंकि मैं फिर से "बच्चा" बनना चाहता हूं!

#Kavyotsav2 #childhoodmemories

(भावनाप्रधान कविता)

और पढ़े

प्यार by Soul!

आज रवि की शादी थी, मुस्कान से, यह एक "Arrange marriage" थी। रवि के दिल के अन्दर कुछ बातें "तैर" रही थी, पर बदनामी के डर के कारण उसने बातों को अपने दु:ख के समंदर में डूबो दिया था!

वो अपने माता-पिता को हमेशा यूं ही कहता कि मुझे शादी नहीं करनी...वो नहीं चाहता था कि उसके कारण किसी लड़की का जीवन ख़राब हो! पर परिवार वालों और खासकर माँ की जिद्द ने रवि को मुस्कान से शादी करने पर मजबूर कर दिया था!
शादी के बाद मुस्कान से आँखें नहीं मिला पाता था और ना ही ठीक से बात कर पाता था।
मुस्कान ने एक दिन रवि से सच्चाई और सारी दबीं बातों को उससे उजागर करने को कहा, रवि छटपटाया और सोचा कि "मैं अपनी ख़ामियों का दोष उस बिचारी को क्यों दे रहा हूँ!"

बाद में उसने मुस्कान को अपनी सारी बातें बताई। कहा, "मैं वो वृक्ष, जो फल-फूल नहीं दे सकता, साफ़-साफ़ कहूँ तो मैं 'नपूसंक' हूँ, बदनामी के डर और परिवार वालों के शादी करने के दबाव से मैं किसी को बता नहीं पाया, I am sorry!"

मुस्कान सन्न रह गई और बाद में हल्की-सी मुस्कुराहट लेके बोली "मैंने तो वृक्ष से प्यार किया है, ना कि उसके फल-फूल से!"
रवि की आँखें खुशी से भर आई और मुस्कान को गले से लगा लिया!

तो, इस कहानी से यह सीख मिलती हैं कि प्यार शरीर से नहीं, बल्कि आत्मा से किया जाना चाहिए! तो ही प्यार के रिश्ते मजबूत होते हैं।
#Moralstories #Pyarbysoul

और पढ़े

"जब एक अंधे ने सही राह दिखलाई!!"

तकरीबन दो महीने बीतने को आए और आशिष आज भी बेरोज़गार बैठा है। ग्रेजुएशन अच्छे नंबरों से पास किया था,सोचा कि उसे अब आराम से नौकरी मिल जाएगी।
आशिष नौकरी की तलाश में भटकने लगा लगभग दस से ज्यादा कंपनियों में 'इंटरव्यूस' दिए...पर कोई भी कंपनी उसे लेने को तैयार नहीं हुई!

बेकारी के कारण घर में हमेशा सोते रहना, मोबाईल फ़ोन पर समय बर्बाद करना, जैसे उसकी 'दिनचर्या' बन गई हो। बेरोज़गारी के कारण वह चिड़चिड़ा-सा हो गया था, मानो 'डिप्रेशन' के झाल में फँसते जा रहा हो!
एक दिन उसे 'interview call' आया, कंपनी की H.R Head को दबी आवाज़ में interview देने के लिए हाँ तो कर लिया , पर उसका मन अब भी रो रहा था। हांलाकि मन को मनाया और interview देने के लिए निकल पड़ा।

बस में चढ़कर, दूसरी बस बदलने के लिए शहर के मुख्य बस स्टेशन पहुंच गया। लोगों की भीड़ और फेरिये वालों की आवाजों के बीच एक "गरजती" हुई आवाज आई "शू पोलिश...शू पोलिश,आपके जूतों को 'आइने' की तरह चमकाए, जब आपका मगन मोची आए!" आशिष ने भी अपनी 'जिज्ञाष़ा' को संतुष्ट करने के लिए पास जा़कर देखा तो आश्चर्यचकित हो गया! पता चला कि मगन "दिव्यांग" है, आँखो से देख नहीं पाता है, फिर भी वो इतना संघर्ष कर रहा था!

आँखों से न देख पाने पर भी जीवन की नाव को आगे बढ़ाते रहने का 'परिश्रम' और चहरे पे हंसी देखकर आशिष भावुक हो गया और उसे जीवन का सार समझ में आ गया! ठाना कि "चिंता करने से कुछ नहीं होता, मेरे पास तो पूरा शरीर है पैसे कमाने को और मैं इतनी जल्दी हार मान गया, अभी मैं संघर्ष करूँगा, लडूँगा इन खराब परिस्थितियों के खिलाफ, पर कभी हार न मानूंगा!"
#Moralstories #Motivational

और पढ़े

एक था "मास्टर"!

हर रोज़ जब भी स्कूल के बच्चों का "खेल" का पीरियड होता तो कुछ चार नौजवान 'लाश' की तरह बेहोशी की हालत में पड़े मिलते! असल में ये चार लोग किसान थे, पर अकाल पड़ने और ज़मीनदारो से परेशान होकर शहर में रोज़गारी की तलाश में आए थे। शहर में तो आ गए, पर रोज़गारी ना मिलने के कारण उन लोगों ने शराब पीना शुरू कर दिया था! ये लोग शराब की थैलियाँ लेकर आते और पास में स्थित स्कूल के ग्राउन्ड में शराब पीकर अगले दिन के सांज तक 'मुरदो' की तरह पड़े रहते।

एक दिन स्कूल के विद्यार्थियों ने मास्टरजी से शिकायत की इस बारे में, मास्टरजी चौंक गए और पुलिस से 'कम्पलेन' करने तक का सोचा!...पर उन्होंने गहन चिंतन किया और अगले ही दिन कुछ विद्यार्थियों के साथ, 'फूटबोल' लेकर ग्राउन्ड में पहुंच गए, उसी समय मास्टरजी ने उन चार नौजवान को खेलने के लिए प्रोत्साहित किया और वे लोग मान भी गए!
मास्टरजी हर रोज़ फूटबोल लेकर आते और उन चार नौजवानों को खेलना सिखाते।

आज एक महीना बीत गया है और उन्होंने आज तक शराब की एक बूंद तक नहीं पी है। ये लोग आज इतना अच्छा फूटबोल खेलते हैं कि "स्टेट लेवल" टीम में भी अपनी जगह बना दी है!

तो ये थी कहानी, जिसमे मास्टरजी ने शराब के नशे में खोए हुए कुछ नौजवानों को सही राह दिखलाई!

#Moralstories #Masterji #Motivation

और पढ़े

#अपने आप से लड़ाई!

अपने आप से लड़ाई ही नहीं है, तो किस काम की ये पढ़ाई है।
गरज गये बादल तो किस चीज़ की चढ़ाई है।
प्रेम और क्रोध के आखर भी तो ढ़ाई है।
हैं यहीं सब , पर खो गए किसी चक्रव्यूह में!
अपनों ने किया याद, पर इतना एकांत क्यों है?
जो धोख़ा है वो दुर्योधन सा, पर जो सच्चाई से लडे़ वो ही क्यों अभिमन्यु है?
मुखौटा, नकाब कुछ भी पहन लो, पर इतना फरेबी रुआब क्यों हैं?
यहाँ स्वभाव बेढंगा है, सोच सबकी नंगी है!
पीठ पीछे भाषण लम्बा हैं, पर प्रत्यक्ष बोली चंगी!
अपने आप से लड़ाई ही नहीं है, तो किस काम की ये पढ़ाई है।
कहीं मिथ्या-रूपी मरीचिका है, तो कहीं भूलभुलैया-सी खाई है!
ईर्ष्या, लालच इन्हीं का तो झोल है, इमान-ज़मीर ये तो सब पाई-पाई है।
अपने आप से लड़ाई ही नहीं है, तो किस काम की ये पढ़ाई है।

और पढ़े

#अश्क !

जा़लिम दु:खो ने ऐसा सख्त बना दिया!

इसके असर ने हमें गुजरा हुआ वक्त बना दिया।

खुलके रोना चाहते थे मगर,

पर ये अश्को का बहता ही नहीं सागर।

और पढ़े

#kavyotsav

चित्त चोर

आँखों से तेरी नींदे चुराकर, फिर सपनो में तुझे अपना बनाकर।

दिल से तेरी धड़कने चुराकर, फिर बस जाएं तेरी रुह के भीतर।

ज़हन से तेरे शब्दों को चुराकर,फिर हर वाक्यों में मेरा नाम बसाकर।

होंठो से तेरी खामोशी चुराकर,फिर तेरे जीवन में हरियाली पिरोकर!

चोर हूँ,कुछ और मत समझना!

गलतियाँ कर रहा हूँ,तेरी सांसो को इस्तेमाल कर रहा हूँ, अपने जीवन को बदलने के लिए ।

प्यार है सच्चा,स्वार्थ मत समझना!

मिल जाएगा और भी पर मेरे जैसा चोर नहीं मिलेगा।

चित्त चोर हूँ,कुछ और मत समझना!

बारिश से बीनी मिट्टी की खुशबू छीन लें,तेरे सूखे रण समान मन में इसकी बौछार कर दें।

सितारों से उसका टिमटिमाहट छीन लें,तेरी उदासीन आँखों में उसकी जगमगाहट भर दें।

प्यार है सच्चा,स्वार्थ मत समझना!

चित्त चोर हूँ,कुछ और मत समझना!

#kavyotsav

और पढ़े