×

Film reviews Stories free PDF Download | Matrubharti

‘भारत’ फिल्म रिव्यूः कमजोर कडी ‘कहानी’
by Mayur Patel
  • (57)
  • 886

सुपरस्टार सलमान खान की लेटेस्ट ‘ईद’ रिलिज ‘भारत’ की सबसे बडी प्रोब्लेम है उसकी कहानी जो की बहोत ही फैली-चौडी है. साल 1947 से लेकर 2010 तक का भारत ...

‘अलादीन’ फिल्म रिव्यूः मनोरंजन का तूफान
by Mayur Patel
  • (56)
  • 689

अरेबियन नाइट्स. अरबस्तान की कहानीयां. भारत की न होने के बावजूद भारतीयों को काफी जानी-पहेचानी, अपनी-सी लगनेवाली उन कहानीयों पर बनी एनिमेशन फिल्में तथा सिरियल्स हम सब देख चुके ...

दे दे प्यार दे - फिल्म रिव्यू
by Mayur Patel
  • (75)
  • 1k

कुछ फिल्में एसी होतीं हैं जिनको ‘ग्रेट’, ‘क्लासिक’ जैसे विशेषणो से नवाजा जा सकता है. जैसे की ‘दंगल’. और कुछ फिल्में एसी होती है जिनको ‘सुपरफ्लोप’, ‘हथोडा’ कहा जा ...

स्टुडन्ट ऑफ द यर 2- फिल्म रिव्यू हिंदी
by Mayur Patel
  • (94)
  • 1.5k

खाना चाहे कितना भी सजा-धजा कर परोसा जाए, अगर उसमें स्वाद ही नहीं होगा तो कीसीको भाएगा क्या..? नहीं, बिलकुल ही नहीं. ‘स्टुडन्ट ऑफ द यर 2’ का हाल ...

‘ऐवेंजर्स एंडगेम’ फिल्म रिव्यूः धमाकेदार पेशकश…
by Mayur Patel
  • (87)
  • 1.3k

11 साल, 21 फिल्में और कई सारे सुपर हीरोज… मार्वेल युनिवर्सने एक के बाद एक ब्लोकबस्टर फिल्में देकर पूरी दुनिया के सिनेप्रेमीओं को खुश कर दिया था. और इस ...

कलंक’ फिल्म रिव्यू
by Mayur Patel
  • (104)
  • 1.8k

एक था करन जोहर. बडी बडी ब्लोकबस्टर फिल्मों का निर्देशन और निर्माण करके खूब पैसा बटोरने और भारतीय दर्शकों का खासा मनोरंजन करने के बावजूद कई बार वो अपने ...

‘द ताशकंद फाइल्स’ फिल्म रिव्यूः इतिहास का वो अनसूलझा पन्ना
by Mayur Patel
  • (47)
  • 632

1966 सोवियत यूनियन की राजधानी ताशकंद में भारत के तत्कालिन प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री की मौत हो गई थी. दुनिया को ये कहा गया था की शास्त्रीजी की ...

‘रोमियो अकबर वॉल्टर’ फिल्म रिव्यूः ढीलीढाली थ्रिलर
by Mayur Patel
  • (48)
  • 819

जासूसी थ्रिलर फिल्म में सबसे ज्यादा जरूरी क्या होता है..? एक रोमांचक कहानी. ट्विस्ट से भरपूर स्क्रिप्ट. रोंगटे खडे कर देनेवाली परिस्थितियां और धमाकेदार एक्शन. ये सारी चीजें ‘उरी’ ...

‘केसरी’ फिल्म रिव्यू- सारागढी की गौरव गाथा…
by Mayur Patel
  • (91)
  • 1.6k

वो केवल 21 थे और सामने पूरे 10000 की फौज. जीत नामूमकिन थी. लेकिन उन 21 जांबाज सिपाहीयों के हौसले बुलंद थे. इतने बुलंद की उनकी सरफरोशी इतिहास के ...