I am kamni gupta from jammu.Writing is my hobby. I have participated in five sanjha sangreh and my poetry published in different newspapers and magazines .

Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 सप्ताह पहले

1. चलते-चलते ही ये एहसास हो गया फिर,
तुमने कदम बढ़ाकर पीछे हटाया क्यों था।
2.
रुक ही जाते तुम्हारे जवाब के इंतजार में,
शामिल नहीं मेरी फितरत में किसी को असंमजस में डालना।
3.
अक्सर भूल जाते हैं वो हमें याद रखना,
हमने उनकी इस भूल पर अब माफी नहीं रखी है।
कामनी गुप्ता***
जम्मू !

और पढ़े
Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
3 सप्ताह पहले

श्वासों सों का खेल है सारा,
जिसमें बंधा जीवन है सारा।
इक पल जो थम सी जाए,
अपने, बेगानों का भेद बताए।
धन और शौहरत ये सारी ही,
इसका मोल न चुका सके कहीं।

कामनी गुप्ता***
जम्मू !

और पढ़े
Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
3 सप्ताह पहले

वादा तो इतना ही था कि फिर मिलेंगे,
तुमने इक बार बुलाया तो होता।

हमने हर ख्वाहिश तुम्हारे नाम ही की थी,
तुमने ख्वाबों में ही हमें चाहा तो होता।

कामनी गुप्ता***
जम्मू !

और पढ़े
Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
4 सप्ताह पहले

ग़म को तुम रख दो एक तरफ़, बस मुस्कुराना सीख लो,
जब भी लगेगा मौका हमें, इन्हें ले जाएंगे तुमसे, लिख लो।

कामनी गुप्ता***
जम्मू !

और पढ़े
Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
4 सप्ताह पहले

मन और पंछी अपनी धुन में सवार,
विचरते चहुं ओर नहीं दिखती कोई दीवार।

कामनी गुप्ता***
जम्मू !

Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
4 सप्ताह पहले

दूर गगन और ख्वाबों का विस्तार,
आशाएं संभल कर करती रही विचार,
कदम-कदम पर हुआ आपस में संवाद,
फिर भी नहीं मन ख्वाहिशों से आज़ाद।

कामनी गुप्ता***
जम्मू !

और पढ़े
Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

फिर तुम्हारी यादों का सिलसिला शुरू हुआ और,
तुम्हें भूल जाने के वादे ने साथ न दिया आखिर।

कामनी गुप्ता***
जम्मू !

और पढ़े
Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
3 महीना पहले

सोच और संस्कारों की बात होती है,
यूं तो बेवजह कुछ भी नहीं जहां में।
just replying...

Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
3 महीना पहले

हर रोज़अपनी ख्वाहिशों से मुलाकात जारी थी,
उनमें हर पल पूरा होने की आस बाकी थी।

कामनी गुप्ता***
जम्मू !

Kamini Gupta कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
4 महीना पहले

सुप्रभात।
करने को बहुत कुछ कर सकता है,
अकेला आदमी।
#अकेलाआदमी #collab #yqdidi #YourQuoteAndMine
Collaborating with YourQuote Didi

Read my thoughts on YourQuote app at https://www.yourquote.in/kamni-gupta-d8fr/quotes/kbhii-kbhii-bhut-kuch-krne-kii-taakt-bhii-rkhtaa-hai-jb-vh-bp10kp

और पढ़े