×

Full story of my life...._ myself a half writer...

दिल पागल है रोज़ नई नादानी करता हैं,
आग में आग मिलाता है फिर पानी करता है....

रिश्तों की दुनिया भी "सत्येंद्र" उस दिन बेईमान हो जाती हैं,

जिस दिन वो बेटियां अपने ही घर में मेहमान हो जाती हैं....

#बेटियां

__✍️✍️ satyendra kumar

और पढ़े

true....😄😄😄

यू इल्ज़ाम ना लगाओ "सत्येंद्र" कि प्यार में है हम,
अरे अभी कहां सावन हैं अभी तो इन्तज़ार में हम..

✍️✍️✍️

आज उसने मेरे मोहब्बत के खतों को जला दिया,
तब्दील कर धुएं में मेरा इश्क' उसने हवा में उड़ा दिया...

#sk

कहानी अपनी -अपनी अहल- ए - महफिल जब सुनाते हैं,
मुझे भी "सत्येंद्र" कुछ भूले हुए अफसाने याद आते हैं....