मैं एक प्राइमरी अध्यापिका हूं l मैं दिल्ली में रहती हूंl शुरू से ही पढ़ने, पढ़ाने में मेरी रूचि रही है l अपने मन के भावों को कविता, कहानी का रूप देने का यह मेरा छोटा सा प्रयास हैl आप सभी मेरी रचनाओं को पढ़ मेरा मार्गदर्शन करें, जिससे मेरी लेखनी को सही दिशा मिल सकेl

Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
1 महीना पहले

इतना भी आसान नहीं
कहना किसी को अलविदा
चाहे वो निर्जीव वस्तु हो या इंसान।
वर्ष 2022 कहने को है एक साल
लेकिन इस एक वर्ष में इसने हमें दी
365 दिन अपनों संग जीने की सौगात।
कई बार गम में आंखें जब डबडबाई
अगले ही पल देकर खुशियां की वजह
तुमने कर दी उसकी भरपाई।
ऐ जाते हुए वर्ष! मुझ पर तेरी नेमतें नहीं है कम
कैसे करूं मैं तेरा शुक्राना
दिया तूने मुझे खट्टे मीठे अनुभवों का अनमोल खजाना।
लेकिन यही है इस प्रकृति का नियम
जो आया है आज, वो जाएगा कल
जाने वाले की बस यादें रह जाती है,यह सत्य है अटल।।

-Saroj Prajapati

और पढ़े
Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी सुविचार
3 महीना पहले

मत रखो दिल पर ज्यादा बोझ
समय रहते मन की गांठें खोल
अपना होगा तो समझ ही जाएगा
वरना दिखावटी अपनों की
भीड़ से एक कम हो जाएगा।

-Saroj Prajapati

और पढ़े
Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
3 महीना पहले

प्रयत्न रूपी चाबी से आज नहीं तो कल
सफलता रूपी ताला खुल ही जाएगा
बस थामकर रख धैर्य और संयम का हाथ
परिश्रम तेरा जरूर रंग लाएगा।।

-Saroj Prajapati

और पढ़े
Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
3 महीना पहले
Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी सुविचार
4 महीना पहले

दुनियादारी की समझ किसी किताब को पढ़कर नहीं
अपितु जिंदगी में मिले विभिन्न अनुभव से आती है।।

-Saroj Prajapati

Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
4 महीना पहले

कुछ शौक पालिए थोड़ा शौकीन बनिए
अपने ख्वाबों में हकीकत के रंग भरिए
टूट जाए कब सांसों की डोर इससे पहले
अपने मन की भी हर इच्छा पूरी करिए।

-Saroj Prajapati

और पढ़े
Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी रोमांस
4 महीना पहले

कुछ कोमल अहसास, कुछ अनकहे जज्बात
दिल पर छाया है आजकल एक अजब सा खुमार
आंखें हर पल उन्हें देखने को तरसती है
आए सामने वो तो धड़कनें बेइंतेहा शोर करती हैं
कोई कुछ तो समझाइए इस दर्द ए दिल की दवा बताइए..!!

-Saroj Prajapati

और पढ़े
Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
4 महीना पहले

आकर्षण से शुरू हुआ प्रेम गर दिल से जुड़ जाता है
फिर दो दिलों का यह बंधन उम्र भर साथ निभाता है।।

-Saroj Prajapati

Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी सुविचार
4 महीना पहले

बहुत ही सरल है जिंदगी का गणित
जैसा तुम दोगे इसे वैसा ही जिंदगी
ब्याज सहित लौटाएगी तुम्हें एक दिन।

-Saroj Prajapati

और पढ़े
Saroj Prajapati मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
5 महीना पहले

सफलता रूपी कठिन मंजिल तक
आत्मविश्वास व परिश्रम रूपी रथ पर
सवार होकर ही पहुंचा जा सकता है।।

-Saroj Prajapati