Hey, I am on Matrubharti!

हे कृष्ण मुरारी,हे गिरधारी! छेड़ दे फिर वो मुरली की धुन न्यारी। सुन उस मधुर तान को छोड़ के ये मोह माया के बंधन, बन जाऊं फिर तेरी जोगन प्यारी। इतनी सी अर्ज है मोहन! चरण रज बनूं मैं तेरी, ले शरण में तू मुझको अपनी, जन्म मरण के बंधन से दे मुक्ति, कर भवसागर से पार।। 🙏 सरोज 🙏

और पढ़े

पहना है जबसे हमने
दुनियादारी का चश्मा।
दुनिया के बदलते रंग
अब बेहतर नजर आने लगे हैं।।
🌸 सरोज 🌸

आज फिज़ा में
अजब सी मदहोशी छाई है।
दिल में मीठी सी कसक
जग आई है।
सारा जग लगता है
प्यार के रंग में डूबा।
किस रंगरेज ने ये
प्यार की खुशबू बिखराई है।।

और पढ़े

तिरंगा
आन तिरंगा,शान तिरंगा,
भारत की पहचान तिरंगा।।
आस्था तिरंगा, विश्वास तिरंगा।
भारत का स्वाभिमान तिरंगा।।
शक्ति तिरंगा, भक्ति तिरंगा।
भारत की प्रगति तिरंगा।।
शांति तिरंगा, क्रांति तिरंगा।
भारत की जागृति तिरंगा।।
हरियाली तिरंगा, खुशहाली तिरंगा।
भारत का समृद्धशाली तिरंगा।।
होश तिरंगा,जोश तिरंगा।
भारत का जयघोष तिरंगा।।
संस्कृति तिरंगा, सभ्यता तिरंगा।
भारत की भव्यता तिरंगा।।
धड़कन तिरंगा,स्पंदन तिरंगा।
भारत का वंदन तिरंगा।।

और पढ़े

जिंदगी तो जीते हैं सभी,
लेकिन इसे जिंदादिल और खूबसूरत
बनाते हैं ये दोस्त।।
😊सरोज 😊

पहिया उम्र का ये कभी,
आगे बढ़ने नहीं देते,
बचपन ये कभी मिटने नहीं देते,
वक्त को लेते हैं जो थाम,
ऐसे ही जिद्दी और मस्तमौला होते हैं, ये
दोस्त।
🌸सरोज🌸

और पढ़े

रिश्तों की उलझनों को, मैंने कुछ यूं सुलझा लिया, 'मैं' को अपनी मार कर, रिश्तों को अपने बचा लिया। 🙏सरोज 🙏

चलो दोस्तों, फिर मुस्कुरा ले छेड़ कर किस्से, कुछ नये पुराने। चलो दोस्तों, रूठे हुओं को प्यार से फिर मना ले छेड़ कर,किस्से कुछ नये पुराने। चलो दोस्तों, बेफिक्रे बन गाएं फिर से, वही तराने छेड़ कर,किस्से कुछ नये पुराने। चलो दोस्तों, चेहरे को अपने फिर से आईना बना ले छेड़ कर किस्से,कुछ नये पुराने। चलो दोस्तों, बात बात पर फिर से खुलकर ठहाके लगा ले छेड़ कर किस्से,कुछ नये पुराने। चलो दोस्तों, सुख दुख अपने फिर से बतला ले छेड़ कर किस्से,कुछ नये पुराने। 🌸सरोज 🌸

और पढ़े

खूब इम्तिहान ले ए जिंदगी
तेरे हर इम्तिहान में
हम अव्वल आ दिखलाएंगे।
जब सुख नहीं ठहरा ज्यादा दिन
तो ये दुःख के दिन भी
जल्द ही कट जाएंगे।
😊सरोज 😊

और पढ़े

मायके का प्यार है , तीज का त्यौहार। माता पिता का दुलार, है तीज का त्यौहार। भाई भाभी का स्नेह है, तीज का त्यौहार। घेवर सी मिठास है, तीज का त्यौहार। चूड़ियों की झंकार है, तीज का त्यौहार। सुहागिनों का श्रृंगार है, तीज का त्यौहार। पिया की मनुहार है ,तीज का त्यौहार। सास ससुर का आशीर्वाद है, तीज का त्यौहार। सखियों संग झूला है ,तीज का त्यौहार। खुशियों का मेला है ,तीज का त्यौहार। 🌸सरोज 🌸

और पढ़े