लेखनी मेरा विस्तार ..(3) पुसतकों का प्रकाशन.. "एक मुसाफिर ऐसा भी" बाल ठाकरे,"नस बंदी से नोट बंदी तक"काव्य संग्रह,"विकास पथ नरेन्द्र मोदी"Biography तीनों पुस्तकें"amazon" पर उपलब्ध हैं। ebook.."एक कदम आत्मनिर्भरता की ओर".coming soon new ebook... गजल़

उन ख्वाहिशों का बेसब्री से इंतजार है
जिन ख्वाहिशों को सब ओढते बिछाते थे..
सपने सबके बड़े थे,महत्वाकांक्षा आसमां से उपर..
बंद खिड़कियों से बच्चों की किलकारियां...
आज स्वच्छंद होने को बेकरार है..
रजनी तू कब जाएगी?
कब लाएगी भोर?
#डॉरीना #अनामिका #StayAtHome
#हिंदी_का_विस्तार

और पढ़े

कठिनाईयां न हों तो मानव जाति में चुनौतियां स्वीकार करने की क्षमता ही समाप्त हो जाऐंगी #अनामिका

अच्छी खासी जिंदगी चल रही थी सबकी इतनें में किसी ने चमगादड़ खा लिया.. खाना नहीं था तो मांग लेते भारतवासियों से.. #अनामिका

और पढ़े

"एक पैगाम मेरी सहेलियों के नाम"
सच में यार क्या दिन थे वो..
क्यों हम बडे़ हो गए?
सपने बडे़ हो गए
ख्वाहिशें गगनचुम्बी हो गई.
हमारे रंग रूप बदल गए
बस कभी न बदली हमारी दोस्ती
न ही बदल सका वो बचपन
न भूल सके हम इक्लेयर का स्वाद
सूरजचाट वाले चाट का स्वाद
हमें बखूबी याद है.. #डॉरीना

और पढ़े

विश्वास नहीं हो रहा ऋषि कपूर जी महाप्रस्थान की ओर चले गए...
अब सोशलमीडिया पर यथार्थ की बेबाक बातें कौन
रखेगा...?
हम आपको कभी नहीं भूल पाएंगे..
#RishiKapoor RIP🙏💐#डॉरीना

और पढ़े

कला ने कला को हर रंग दिखाया.. तूलिका ने अपनी ही छवि को रंगमंच से हटाया... #डॉरीना #IrrfanKhan RIP💐🙏

दिमाग़ कोरोना वायरस का नाम सुनकर इतना थक चुका है कि टैक्स मैसेज के ध्वनि में भी क्वारंटाइन शब्द सुनाई पड़ने लगा है #अनामिका 😂 #StayAthome 😂

और पढ़े

सामाजिक प्राणियों को समय पर याद दिलाते रहना चाहिए की वो मूल रूप से आदिमानव थे जिनका गुणसूत्र जानवरों से बिलकुल मिलता जुलता था #डॉरीना

और पढ़े

चाहे धर्म हो या अधर्म
चाहे सत्य हो याअसत्य.वो शून्य में नहीं जी सकता उसे भी उगने,पनपने के लिए समाज की ऊपजाऊ भूमि चाहिए,कोई युधिष्ठिर चाहिए,धृतराष्ट्र चाहिए.प्रकाश के लिए सूर्य,चंद्रमा,दीया चाहिए कहने का अर्थ है कि शून्य के मरुस्थल में भटकने से कुछ नहीं मिलेगा.न शब्द न अर्थ #महाभारत #अनामिका

और पढ़े

Dr. Reena