introvert writer (JOURNALIST)

मुझसे मुलाक़ात ना करो यही अच्छा है,
मिलोगे तो तुम्हें मोहब्बत हो जाएगी।
फासला रहे दरमियां यही बेहतर है,
ज़रा देर बातों से वरना मेरी आदत हो जाएगी।।
#रूपकीबातें

और पढ़े

garba in Vadodara gujrat
wow😳😳😳😳👌👌👌👌
#रूपकीबातें

हर साल ही पुतला जलता है,
मगर रावण कहाँ मरता है।
जिस दिन 'राम' के हाथों तीर चलेगा,
बस उस दिन ही 'रावण' मरेगा।।

चारों और हैं कपटी झूठे,
मुझे दिखता कोई संत नहीं।
विजयादशमी बस त्यौहार हो गया,
बुराई का कोई अंत नहीं।।

#रूपकीबातें

और पढ़े

मेरी आँखों से मेरे दिल का हाल जान ले..
और यूँ भी मेरा अनकहा मान ले..
इतना भी कोई मेरे करीब नहीं।
#रूपकीबातें

और पढ़े

मोहब्बत भी इस लाल रंग जैसी होनी चाहिए,
गहरी, पवित्र और अपना एक अलग अस्तित्व ली हुई..
जिस तरह हाथों को इसने रंगा है,
वैसे ही मोहब्बत भी जीवन को रंग देती..
#रूपकीबातें

और पढ़े

जिन्होंने देश के लिए कुछ भी नहीं किया है.. जिन्हें पता ही नहीं गुलामी क्या होती है, यातनाएं क्या होती हैं.. जिन्हें आज़ादी का असल अर्थ क्या है नहीं पता।
जिन्हें आज़ादी विरासत में मिली हैं.. (सिर्फ इसलिए क्योंकि वो हिंदुस्तान में पैदा हुए हैं हिंदुस्तानी कहलाते हैं.. जबकि असल में उन्होंने देश के लिए कुछ भी नहीं किया है..)
वो अत्यंत महान क्रांतिकारी एक दिन के देशभक्त जो बस ट्रोल करना जानते हैं.... गांधी जी की निंदा कर रहे हैं.. और उनकी देशभक्ति या जीवन पर उंगली उठा रहे हैं..
वो कैसे थे कैसे नहीं.. उन्होंने क्या किया, क्या नहीं.. ये सब बाद कि बातें हैं.. पहले खुद ने क्या महान काम किया है इस पर विचार कर लीजिए और चर्चा भी।
धन्यवाद..
🙏
कृप्या ज्ञान ना दें.. हमारा खुद का नहीं सम्भलता🙏
#रूपकीबातें

और पढ़े

जब मशगूल होते हो तो,
थोड़ा वक्त निकाल कर..
मुझसे बात किया करो..
यूँ तुम्हारा..
अपना समय गुज़ारने, मुझसे बात करना..
मुझे अच्छा नहीं लगता।

#रूपकीबातें

और पढ़े

जब दिल में ख़ौफ़ ही नहीं है खोने का,
तो क्या फ़र्क पड़ेगा मेरे होने या न होने का।
#रूपकीबातें

कभी यूँ भी किया करो,
जो नहीं लिखा है हमने कभी..
उसे पढ़ा करो।
#रूपकीबातें

अपनी ख़्वाहिशों को मार कर,
तुझको आबाद किया है।
हाँ, कुछ इस तरह भी मैंने,
खुद को बर्बाद किया है।
#रूपकीबातें

और पढ़े