introvert writer (JOURNALIST)

यदि औरतों के चरित्र का मूल्यांकन कपड़े और मुस्कुराहट करती है, तो पुरुषों के चरित्र का मूल्यांकन किस आधार पर किया जाना चाहिए..?????
#रूपकीबातें

और पढ़े

मैंने जब भी सज़दे में सिर झुकाया था,
खुदा में बस तुझको ही पाया था।
कैसे छोड़ कर तुझे जी सकूँगी मैं,
तेरी खातिर तो ईमान भी गंवाया था।।

#रूपकीबातें #matrubharti #शायरी #रूपकीशायरी

और पढ़े

या तो अख़बार छापने लगें,
या अखबार में छपने लगें,
पर कुछ तो करें...
( बस यूँही लिख दिया☺️☺️)

#रूपकीबातें

तुम्हारे जाने के ग़म को कुछ यूँ भुला रहे हैं,
हर शाम हम तुझ को ख़्वाबों में सुला रहे हैं..
वो जो दिया तुमने मेरे आंगन में जलाया था,
उस दिए को आज आंसुओं से बुझा रहे हैं।।

#रूपकीबातें #matrubharti #hindishayri #sadshayri

और पढ़े

नहीं, वो दिल नहीं तोड़ता मेरा..
बस वादे करता है...
.
.
तोड़ने के लिए।

#रूपकीबातें #matrubharti #hindishayri #loveshayri

आँसूओं के बहने की वज़ह दिल होता है दिमाग नहीं.. और ग़लतियों की वज़ह दिमाग होता है।

#रूपकीबातें #matrubharti #lifequote #quote #hindiwriter #roop

और पढ़े

किसी ने पीछे से उसका नाम पुकारा,
और मैं उसे देखने की हसरत में..
मंजिल से लौट गई।

#रूपकीबातें #matrubharti #hindiquote #hasrat #manjil

और पढ़े

अजीब बात है ना औरतों को पुरुषों से पुरुषों के खिलाफ ही सुरक्षा चाहिए।

#रूपकीबातें #matrubharti #विचार

रूप, देह, रंग, धन, दौलत, परिवार, रिश्तेदार, कुछ काम नहीं आएगा। जब बात कर्मों की होगी..
इसलिए कर्म सुधारिये, जीवन सुधरेगा।

#रूपकीबातें #matrubharti #कर्म #जीवन #हिंदी

और पढ़े

बंदिशें तो सिर्फ मेरे जिस्म पर ही लगा सकोगे,
मगर मेरी रूह को कैसे रोकोगे।।

#रूपकीबातें