0lकई पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। आपके द्वारा लिखित कहानियाँ, कविताएँ सुप्रसिद्ध समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रहती है।

Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
4 सप्ताह पहले

ओ मेरे सूर्य

बचपन बीता शिक्षा, संस्कार
और संस्कृति की पहचान में।
यौवन बीता
सृजन और समाज के उत्थान में।
अब वृद्धावस्था में
अपने अनुभव समाज को बाँटो।
युवाओं को दिखलाओ
अपने अनुभवों से रास्ता।
संचालित करो
सेवा और परोपकार की गतिविधियाँ
आने वाली पीढियों के लिये
बन जाआ प्रेरणा।
तुम हो सूर्य के समान ऊर्जावान
अपनी ऊर्जा से
समाज में प्रकाश भर दो।
बचपन की शिक्षा
यौवन का सृजन
और वृद्धावस्था के अनुभव
जब इनका होगा संगम,
तब यह त्रिवेणी
करेगी राष्ट्र की प्रगति
सच हो जाएगा
भारत महान का सपना
युवाओं को सौंपकर देश की कमान
इसे बनाओ विश्व में महान।

और पढ़े
Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
4 सप्ताह पहले

अनुभव

अनुभव अनमोल हैं
इनमें छुपे हैं
सफलता के गोपनीय सूत्र
इनमें है अगली पीढ़ियों के लिये
नया जीवन और मार्गदर्शन।
बुजुर्गों के अनुभव और
नयी पीढ़ी का
श्रम व सृजन में
निहित है देश व समाज का विकास
इससे निर्मित इमारत
होगी इतनी मजबूत कि
उसका कुछ नहीं बिगाड़ पाएंगे
आँधी या भूकम्प
ठण्ड गर्मी बरसात और धूप।
अनुभवों को अतीत समझकर
तिरस्कृत मत करो
ये अमूल्य हैं
इन्हें करो स्वीकार और अंगीकार
इनसे मिलेगी
राष्ट्र को नयी दिशा
व समाज को सुखमय जीवन।

और पढ़े
Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
4 सप्ताह पहले

मूल मंत्र


सूरज आता है
प्रतिदिन सबको जगाता है
हर ओर बिखर जाती है उसकी किरणें
उसका प्रकाष नही करता है
जाति, धर्म, वर्ग, संप्रदाय या
अमीर गरीब का भेद।
वह उपलब्ध होता है
सभी को समानता से।
वह है एकता और सदभाव का प्रतीक।
उसके बिना संभव नही है
इस सृष्टि में जीवन का अस्तित्व।
उदय और अस्त होकर वह
देता है ज्ञान
समय की पाबंदी का।
देता है संदेष
सतत् कर्मरत रहने का।
अस्त होकर भी प्रकाशित करता है
चंद्रमा को।
समझाता है मानव को
जीवन की निरन्तरता और
कर्मठता का रहस्य।
जीवन की सफलता और
सार्थकता का मूल मंत्र।

और पढ़े
Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
1 महीना पहले

सफलता का आधार


जब मन में हो दुविधा
और डिग रहा हो आत्म विश्वास
तब तुम करो आत्म चिंतन
और करो स्वयं पर विश्वास
यह है ईश्वर का अद्भुत वरदान
इससे तुम्हें मिलेगा
कठिनाईयों से निकलने की राह का आभास
ये जीवन के अंत तक
देंगे तुम्हारा साथ
कठिनाइयों और परेशानियों को दूर कर
हर समय ले जाएंगे
सफलता की ओर
इनसे मिलेगी तुम्हें कर्म की प्रेरणा
और तुम बनोगे कर्मयोगी
लेकिन धर्म को मत भूलना
धर्मयोग है ब्रह्मस्त्र
वह हमेशा तुम्हारी मदद करेगा
और विपत्तियों को
जीवन में आने से रोकेगा
सफलता सदैव मिलती है
साहस, लगन और परिश्रम से
इससे मिलती है मस्तिष्क को संतुष्टि
और हृदय को मिलती है तृप्ति
यही है जीवन में सफलता का आधार
कल था, आज है और कल भी रहेगा।

और पढ़े
Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
1 महीना पहले

जीवन संघर्ष


प्रतिभा, प्रतीक्षा, अपेक्षा और उपेक्षा में
छुपा है जीवन का रहस्य।
सीमित है हमारी प्रतिभा,
पर अपेक्षाएँ है असीमित।
यदि हम अपनी प्रतिभा केा जानें
फिर वैसी ही करें अपेक्षा
तो बचे रहेंगे उपेक्षा से।
प्रतिभावान व्यक्ति
सफलता की करता है प्रतीक्षा
वह पलायन नही करता
वह करता है संघर्ष
एक दिन वह हेाता है विजयी
उसे मिलता है सम्मान
दुनिया चलती है उसके पीछे
और लेती है उससे
सफलता और विकास का ज्ञान।
यही है जीवन का चरमोत्कर्ष।
कल कोई और प्रतिभावान
करेगा संघर्ष
और पहुँचेगा उससे भी आगे।
यही है प्रगति की वास्तविकता
कल भी थी
आज भी है
और कल भी रहेगी।

और पढ़े
Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
1 महीना पहले

संघर्ष पथ

आस्था जीवन का आधार है
पर वह जीवन नही है।
श्रद्धा और भक्ति
दिखलाती है रास्ता
पर वह मंजिल नही है।
हमें संघर्षरत रहना है,
अनवरत बहती हुई हवा
और बहते हुए पानी सा।
सत्य जीवन को देता है ऊर्जा
और बनाता है मानव को मानव।
काल अपनी गति से चलता है
उससे क्या घबराना
वह चलता है अपनी राह पर
हमें है अपनी राह पर जाना।
हम पथिक है
कठिनाईयों और परेशानियों के बीच
हमें खोजना है सफलता का रास्ता
बढना है आत्मविश्वास के साथ
संयम के साथ, अविचलित।
यह प्रयास ही जीवन है।
संघर्ष की गाथा है।
सफलता की कुंजी है
इसी से बनेगा समाज में स्थान,
इसी से मिलेगा सम्मान,
यही है जीवन का प्रारंभ
यही है जीवन का अवसान
यही है परमात्मा की कृपा
यही है जीवन का ज्ञान।

और पढ़े
Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
1 महीना पहले

संतुष्टि

आसान नही है
जीवन में मंजिल पा जाना,
पर नही है असंभव भी।
जो ठहर गया
उसके लिये कठिन है राहे
और जो चल पडा
उसके लिए राहे
होती जाती है आसान।
यदि श्रम और कर्म
का हो संगम
तो राहें भी बन जाती है
मार्गदर्शक और प्रेरणा स्त्रोत।
यदि मस्तिष्क एवं हृदय में हो
धैर्य और लगन
तब मंजिल हेाती है कदमों में।
कांटों में ही खिलते है गुलाब
सफलता, कठिनाईयों के बीच
कही रास्ता बनाती है।
इसी से मिलता है
जीवन में सुख
इसी से आती है
जीवन में समृद्धि
और इसी में छुपी है
जीवन की संतुष्टि।

और पढ़े
Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
3 महीना पहले

आशा

दुनियाँ में ऐसा कोई नही
जिसे चिंता ना हो
ऐसी कोई चिंता नही
जिसका निवारण ना हो।
चिंता एक निराशा है
और उसके निवारण
का प्रयास आशा है
आशा है सुख
और निराशा है कष्ट
जीवन है
आशा और निराशा के बीच
झूलता हुआ पेण्डुलम।
आशा से भरा जीवन सुख है
निराशा के निवारण का प्रयास ही
जीवन संघर्ष है।
जो है इसमें सफल
वह है सुखी और संपन्न।
असफलता है
दुख और निराशा से
जीवन का अंत।
यही है जीवन का नियम
यही है जीवन का क्रम।

और पढ़े
Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
3 महीना पहले

नीला आकाश

मेघों से आच्छादित आकाश
उमड घुमड कर बरस रहे बादल
गरज रही बिजली।
वायु का एक तीव्र प्रवाह
छिन्न भिन्न कर देता है बादलों को
शेष रह जाता है
विस्तृत नीला आकाश।
कौन है ऐसा
जिसके जीवन रूपी आकाश में
घिरे ना हो परेशानी के बादल
गरजी ना हो मुसीबत की बिजलियाँ।
वह जो सकारात्मकता, सृजनशीलता और
धर्म निष्ठा के साथ जूझता है
परेशानियों और मुसीबतों से
उसके संघर्ष की वायु का प्रवाह
निर्मल कर देता है
उसके जीवन के आकाश को।
लेकिन जहाँ होती है नकारात्मकता
जहाँ होता है अधर्म, वहाँ होता है पलायन,
वहाँ होती है पराजय,
वहाँ होती है कुंठा और अवसाद।
वहाँ छाये रहते है बादल,
वहाँ गरजती रहती है बिजलियाँ।
प्रत्येक का जीवन होता है नीला निर्मल आकाश ।
व्यक्ति की सोच, सच्चाई और सक्रियता
भर देती है उसे बादल, पानी और बिजली से
अथवा कर देती है उसे नीला, निर्मल और प्रकाशवान,
यही है जीवन का यथार्थ।

और पढ़े
Rajesh Maheshwari मातृभारती सत्यापित कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
3 महीना पहले

जीवन पथ

हम है उस पथिक के समान
जिसे कर्तव्य बोध है
पर नजर नही आता है सही रास्ता।
अनेक रास्तों के बीच
हो जाता है दिग्भ्रमित।
इस भ्रम को तोडकर
रात्रि की कालिमा को भेदकर
स्वर्णिम प्रभात की ओर
गमन करने वाला ही
पाता है सुखद अनुभूति और
सफल जीवन की संज्ञा।
हमें संकल्पित होना चाहिए कि
कितनी भी बाधाएँ आएँ
कभी नही होंगें
विचलित और निरूत्साहित।
जब धरती पुत्र मेहनत,
लगन और सच्चाई से
जीवन में करता है संघर्ष
तब वह कभी नही होता पराजित
ऐसी जीवन षैली ही
कहलाती है सफल जीवन
जीने की कला l

और पढ़े