ख़ामोशी से अपनी पहचान बनाते रहो , वक़्त खुद बताएगा तुम्हारा नाम #Shivan

लकीरें तो हमारी भी बहुत ख़ास है…
तभी तो तुम जैसा दोस्त हमारे पास है…!!

#Shivan

Wo Ladki
Buri nahi thi
Meri Kismat hi
Kharab thi

Ye Sabko Bata do Yaro..

Diwali aane vali hai
Uske nam ka ek diya
Mere Dil me bhi Jala Do Yaro...

Ab Wo Kaha hai?
Kaisi hai ??
Kisi se
Puchta nahi mai...

Wo Kho to
Gai hai Meri Zindagi se
Par use Ab Khojta nahi mai..

Aur Agar
Chalti hai
Rab ke yaha
Tumhari sifarish

Mere Haq ki
Khushiya Usake
Haq me Likhwa do Yaro..

Diwali aane vali hai
Uske nam ka ek diya
Mere Dil me bhi Jala Do Yaro...

#Shivan

और पढ़े

Sau andheron mein bhi roshan ho, us haqeeqat ki talash hai .. . teri dehleez pe chhod aaye, us mohabbat ki talash hai . .. jhukne ki ibaadat ko toh samjhe jahaan walon .. . katne pe joh haasil ho, us jannat ki talash hai

#Shivan

Oye Pagal Roya Na Kar, Tere Dard Se Mujhe Bhi Dard Hota Hai.....

#Shivan

"Kaash" Kaash tum paas aao aur gale laga. kar kaho, Khush to main bhi nahi hun tumhare bina....!!

#Shivan

"Dost" Tujh ko socha to likha kam maine, Ke teri taareef bahot, Par ke qaabil mere alfaaz kaha

#Shivan

Rishtey. Bhi Naukari Ki Tarah Ho Gaye Hain, Achi Offer Mile To Log Sath Chor Dete Hain.

#Shivan

" तु साथ ना सही . . . पर हमेशा रहेगी . . . , एक वजह . . . . तुझे बेवजह चाहने की . . . !💕

#Shivan

लकीरें तो हमारी भी बहुत ख़ास है…
तभी तो तुम जैसा दोस्त हमारे पास है…!!

#Shivan

निगाहों से निगाहों में उतरने को जी चाहता है ।

निगाहों निगाहों से निगाहों में उतरने को जी चाहता प्यार के दो गीत गुनगुनाने को जी चाहता है ।

रूठे हुए अपने को मनाने को जी चाहता है ।

मान जाये वो तो खुद रूठ जाने को जी चाहता है ।

अभी तो जिंदगी का फलसफा पूरा है बाकी कुछ कहने , कुछ सुनने को जी चाहता है ।

निगाहों से निगाहों में उतरने को जी चाहता है ।

बाहों में उनकी समा जाने को जी चाहता है ।

बाहों में उनकी समा जाने को जी चाहता है ।

काश कि दिल की धड़कनो को सुन पाते वो साँसों में उनकी उतर जाने को जी चाहता है ।

मिले जो साथ उनका तो भंवरों सा गुनगुनाने को जी चाहता है ।

मिल जाएँ झीलें जो उनकी तो आँखों में उतरने को जी चाहता है ।

जब से देखा है कली सा उनका चेहरा फूलों की तरह खिलखिलाने को जी चाहता है ।

होता नहीं है इन्तजार अब और जरा भी

उन पर जिंदगी को निसार करने को जी चाहता है..

#Shivan

और पढ़े