Hey, I am on Matrubharti!

"अजब तेरा रूप कान्हा
गजब तेरी माया

यमुना में राधा झाँके
दिखे तेरी छाया..."

"जो लूट के भी आबाद रहे प्यार वहीं है...
जो भूल के भी याद रहे प्यार वहीं है....

सांसो की डोर जाने टूट जाए कब,
जो तेरे मेरे बाद रहे प्यार वहीं है.... ।

और पढ़े

"में तुझे कितना चाहतीं हूं ये लफ्जों में बया कर नहीं सकतीं...

तू टुकड़ा है मेरे दिल का तुझे खुदसे जुदा कर नहीं सकतीं..."

और पढ़े

"किस हक से मांगू में अपने हिस्से का वक्त...

क्योंकि ना वक्त मेरा है और ना ही तुम मेरे हो..."

"रुह जुड़ी थी आपस में ये धागे कच्चे ना थे...

इश्क तो मजबूत था अपना भी पर शायद तेरे इरादे पक्के ना थे..."

तेरी इस दुनिया में ये मंजर क्यो है
कहीं जख्म तो कहीं पीठ में खंजर क्यो है,

सुना है तू हर जरेॅ में है रहता,
फिर जमी पर कहीं मंदिर कहीं मस्जिद क्यो है,

जब रहने वाले दुनिया के हर बंदे तेरे है
फिर कोई दोस्त तो कोई दुश्मन क्यो है,

तू ही लिखता है हर किसी का मुकद्दर,
फिर कोई बदनसीब तो कोई मुकद्दर का सिकंदर क्यो है...

और पढ़े

सितम सह कर भी कितने गम छिपाए हमनें,
तेरी खातिर हर दिन आसूं बहाएं हमनें,

तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला,
तेरे दिए जख्म हर एक से छिपाए हमनें...

और पढ़े

दिल हजार बार चिखे,
चिल्लाने दिजिये...

जो आप का नहीं हो सकता,
उसे जाने दिजिये...

हे ठाकुर जी तुमने सबकी
तकदीर सवारी है...

अब तो कह दो कि अब तेरी बारी है...

कुछ लोग खोने को प्यार कहते है,
तो कुछ लोग पाने को प्यार कहते है,

पर हकीकत तो ये है
हम तो बस "निभाने"
को प्यार कहते है...

और पढ़े