Hey, I am reading on Matrubharti!

બસ આ જ તો છે પ્રગતિની પારાશીશી
ઉભા છે પૂતળા પૂરા કપડે
ચિંથરે જીવતા વિંટળાય છે...!

'तुम' मेरे हो...ऐसी 'हम'...'जिद' नही करेंगे......
:
मगर हम 'तुम्हारे' ही रहेंगे...ये तो 'हम'...'हक' से कहेंगे......

और पढ़े

धूप का तो नाम बदनाम है,         
जलते तो लोग
एक-दूसरे से है ।

  बारिश से ज्यादा तासीर है तेरी यादों की,
   
 हम अक्सर बंद कमरों में भीग जाते हैं...

एक उम्र से हूं तेरी यादों की कैद में,

शायद मेरी जिंदगी में कोई 15 अगस्त नहीं।

तू आ कर ठहर जाना मुझ में कहीं~

​हिफ़ाजत का वादा है ....मेरे दिल का  ~ तेरे दिल से!!

तुम्हारे साथ खामोश भी रहूँ 
तो बातें पूरी हो जाती हैं..

तुम में, तुम से, तुम पर ही 
मेरी दुनिया पूरी हो जाती है!

और पढ़े

*कटु सत्य*

दिवाली पर लोग सस्ती मिठाई उनके लिये लेते हैं जो उन्हें सलाम करते हैं ... ‍‍

और काजू कत्ली उनके लिये लेते हैं जिन्हें वो सलाम करते हैं !!
शुभ दीपावली

और पढ़े

लोग कहते है पागल का कोई भरोसा नही ..
कोई ये नही सोचता कि भरोसे ने ही उसे पागल कर दिया ,,,

आज सब इत्रों का दाम गिर गया ?

माटी को बारिश की पहली बूंदों
ने जो है चूमा...