Hey, I am on Matrubharti!

Nimish Pansuriya बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
1 महीना पहले

" उड़ान ओर सुकून "

" उड़ान कहे में दिन उड़ी ,
रात सुकून बनने ,
सुकून कहे में रात रुका ,
कल दिन उड़ ने "

— निमिष पानसुरिया

और पढ़े
Nimish Pansuriya बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

बिन मौसम की बारिश

" बिन मौसम की ये बारीशको ,
अगर वजह छोड़ देखूं ,
तो क्या लाजवाब लगती है ;
सोचता हूं ,  लगनी भी चाहिए ,
आखिर यही तो वजह छोड़ बरसती है ,
ओर तभी तो , ये दिल खोल बरसती है "

- निमिष पानसुरिया

और पढ़े
Nimish Pansuriya बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
2 महीना पहले

"उस ताकत से सोचलु तुम्हे ,
फिर भुला ले जाए , वो शेष ताकत नहीं ;
आखिरी पल भी , जी लूं तुम्हे ,
फिर अधूरा कह जाए, वो शेष जुबान नहीं "

— निमिष पानसुरिया
( १६/११/२०२९ )

और पढ़े
Nimish Pansuriya बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
2 महीना पहले

" जो अपनी दृष्टि वास्तविक रखता है ,
वहीं तो स्वयं सत्य होता है"

— निमिष पानसुरिया

( ७/११/२०१९ )

Nimish Pansuriya बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
3 महीना पहले

" एक प्रश्न "

" आंख खुली तुम दौड़ चले,
पाने को संसार ;
आंख बंद तुम लोट आए ;
क्यूं बिना ये संसार "


— निमिष पानसुरिया ( २/११/२०१९ )

और पढ़े
Nimish Pansuriya बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
3 महीना पहले

" है विचार...

तुम सोच बन ,

मुंजे रोक सकते हो ;

मै बिना सोच तुम्हे ,

मिटा सकता हूं "


— निमिष पानसुरिया

( 2/11/2019 )

Nimish Pansuriya बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी कविता
3 महीना पहले

" हे विचार...

परेशान मत करो ,

तरीके से जीने दो ;

देख नहीं दुनिया को ,

एक राह से जीने दो "

— निमिष पानसुरिया

और पढ़े