Like to write But took a long pause from it Now wanna resume my writtings and would Like to publish them If found situable

खोकर पता चलती है,
कीमत किसी की ।
पास अगर हो तो
एहसास कहां होता है ......

लगता है खयालों में कोई और आ गया है । मोहब्बत का सुरूर नजरों में छा गया है।।
Namita

इश्क किया तुझसे ,
फिर तन्हा है क्यों हम ...
मेरे दर्द का क्यों ?
तुझे नहीं गम ...
Namita

सुकून की तलाश में,
तारों की छांव में ,
निकले गम कम करने
काँंटे चुभ गए पांव में ।।
Namita

फकत चेहरों पर,
बिकने लगी है दुनिया ।
दिलों पर दाव लगाने वाला
जमाना अब नहीं रहा ।।

खुशी देने वाले भले ही ,
मेरे अपने नहीं होते ।
मगर दर्द देने वाले
अक्सर अपने ही होते हैं । ।
Namita

तुझे भुलाने की कोशिशों में ,
हजार मौतें मर -मर जिया हूं ।
तेरे प्यार के बिना यह जीवन,
जहर के धूँट हर पल पिया हूं ।।
Namita

और पढ़े

क्या गिला है क्या शिकवा,
दर्द है बाकी ?
मिला ना हमदर्द कोई
है साथ मेरे साकी ।
Namita

ख्वाहिशों के अपने मुकाम हो गए।
हम जिंदगी में यूं ही बदनाम हो गए।।
Namita

क्षितिज के उस पार क्या हो रहा है ?
गगन भी चमन मेँ मगन हो रहा है ।
बेकाबू हो रही है दिल की धड़कन ,
प्रिय से प्रिया का,मिलन हो रहा है ।।
Namita

और पढ़े