आप सभी से निवेदन हे पर्सनल msg na भेजे कला और कलाकार का हौसला बढ़ाते हे,धन्यवाद्

लब्जो कि दुकान सजाई है आज फिर मैंने !!!!
बोनी होगी ना!!!!!!!
मेघा....

बड़े ही प्यार से मुझे सहलाया!!
खूबसूरत आकार दे कीमती बनाया,
उस सृजनकर्ता के घर भी दीवाली है,
मुझे भी जल कर उसका कर्ज़ उतारना है,
मुझे आपका घर सजाना है!!!!!
आप के घर आना है।
मेघा....

और पढ़े

ये कैसी चाहत हे राधे!!!
कि तेरा हो भी नहीं पाया.....
और तुझे खो भी नहीं पाया।
मेघा....

बिखरना मेरा तो तय ही है!!!!!!
अब सवाल ये हे, कि क्या तुम संवार पाओगें।
मेघा....✍

मत परखना अपने आसपास की वादियों कि हवाओं को!!
कहीं हवाई तूफ़ान तुम्हे अकेला ना छोड़ दे।
मेघा....

इस भागा दौड़ी से उधड़ सी गई है जिन्दगी!!
सोचता हूं कुछ वक्त दे कर तुरपाई कर लू!!
मेघा....

बधाई दे दे कर करते हम गांधीगिरी!!
भाई बधाई दे देकर करते हम गांधीगिरी!! रास्ते पर कोई मारे पान पिचकारी,
तालियां बजा बजा करते हम गांधीगिरी!!
ट्राफिक सिंगनल तोड़ बिन हेलमेट मिल जाते राह गार।
फूल गुलाब का दे दे कर करते हम गांधीगिरी!!
बधाई दे दे कर करते हम .....
दूर दुश्मन ललकारता अपमानित करने के इरादे से,
स्वाभिमान की खातिर उठ उठ कर करते हम गांधीगिरी!!
भाई बधाई दे दे करते हम....
हिंसा, आस्वच्छता,अपमान, भ्रष्टाचार जैसे दानवो का,
स्वच्छता और शांति का नारा दे दे कर करते हम गांधीगिरी!!
भाई बधाई दे दे कर करते हम गांधीगिरी!!!
मेघा....

#ghandhigiri

और पढ़े

#गांधीगिरी
बधाई दे दे कर करते हम गांधीगिरी!!
कोई मारे पान पिचकारी,तोड़े सिंगनल, बिन पहने हेलमेट, हम ताली बजा गुलाब दे कर करते हम गांधीगिरी।
मेघा....

और पढ़े

ये जो पल का अभी अभी है रुकाव,
शायद मेरा तेरी तरफ़ का ही है जुकाव।
मेरी समझ से परे है ये पड़ाव,
और भी बढ़ता ही जा रहा लगाव।
अनंत सीमा से परे है ये भाव,
डर है, दिल पर ना दे जाय घाव।
ये जो पल का अभी अभी हे रुकाव......(२)
यू तो जिन्दगी में नहीं है कोइ अभाव,
ज़रा सा हंस बोल लेना यही हे स्वभाव।
जहां रहे मुस्कुराते रहे,यही हे सुझाव,
जीवन सफ़र मै कभी ना हो मनमुटाव।
ये जो पल का अभी अभी हे रुकाव......(२)
तुम साथ हो तो यकीनन यक़ीन है मुझे,
रह जाएंगे यांहा अच्छी यादों के खड़ाव
ये जो पल का अभी अभी हे रुकाव.....(२)
शायद मेरा तेरी तरफ़ का ही हे झुकाव।
मेघा....

और पढ़े

बे असर हो जाती है, चाबियां जंग लगे तालो में।
गीरह (गांठ) खोल कर जा, तोड़ के ना जा मेरे खयालों से।
मेघा....