Hey, I am reading on Matrubharti!

Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शुभ संध्या
9 घंटा पहले

ओझल है आंखों के हर आंसु,
अब इसे कहो कि सोने दे या रोने दे!

Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया ગુજરાતી शुभ प्रभात
17 घंटा पहले

મૌસમ પાનખરની બતાવી એવી કમાલ,
લાગે જાણે ધરતી પર લીલી જાજમ બિછાવી હોય પ્રકૃતિએ!!!

Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया ગુજરાતી शायरी
1 दिन पहले

જ્યારે એ હતા, ત્યારે એમના ગુણ ન અવતર્યા,
હવે જોવો એમની કેવી આદત પડી અમને!

Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया ગુજરાતી शुभ रात्रि
1 दिन पहले

दोस्त-यार आज भी हम मानते हैं, ये बात है अलग कि वे बेखबर है इस बात से,
यूं तो वाकिफ थे मेरी बात से,
पर पता नहीं आज क्यो इतने अनजान हैं?

और पढ़े
Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
3 दिन पहले

कुछ सवालों के जवाब नहीं मिला करते,
कुछ ख्वाहीशे अधुरी रह जाती है,
कभी खुली आखो से देखे हुए ख्वाब पूरे हो जाते है,
और बंद आखोने पाले हुए सपने अधूरे रह जाते है।

और पढ़े
Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया ગુજરાતી शुभ रात्रि
1 सप्ताह पहले

એ પ્રથમ અજાણ હતા એકબીજાથી,
પછી જાણકાર થયા અને ફરી અજાણ્યા થયા!!

Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शुभ रात्रि
3 सप्ताह पहले

ये जानकर अच्छा लगा कि कोई खैरियत पूछने वाला है,
ये जानकर अच्छा लगा कि कोई परवाह करने वाला है,
चलो कोई तो है बातें करने वाला,
तो ये जानकर भी अच्छा ही लगा,
जब कोई नहीं था समझने-समझानेवाला तो अक्सर बुरा लगता था,
पर अब जो है तो अच्छा लगता है,
एक मुद्दत के बाद टूटी ये जो तन्हाई,तो अच्छा लगा!!

और पढ़े
Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शुभ रात्रि
3 सप्ताह पहले

कब तक सहेगी बोझ आंखें दर्दो का,
कुछ बातें असहनीय होने पर वे भी छलक जाती है!!!

Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी विचार
4 सप्ताह पहले

आज तक बनते रहे हम एक-दूसरे के आंसुओं की वजह,
तो क्यो न अब मुस्कान की वजह बना जाए एक-दूसरे के लिए,
हो मुस्कुराहट की वजह भी कुछ ऐसी,
कि कोई भुल न पाए हम,
अपने ही दर्द में रोए है आज तक,
अब खुश भी हो जाते हैं किसी की खुशीयों में!

और पढ़े
Maitri बाइट्स पर पोस्ट किया गया ગુજરાતી कविता
1 महीना पहले

ક્યાંક કોઈ ઉંચે પહાડ પર પ્રકૃતિના ખોળે બેસીને પોતાની જાત સાથે જ કરવી છે વાતો,
મનમાં ચાલી રહેલા દરેક પ્રશ્નોના જવાબ મારે ત્યાં જ શોધવા છે,
થોડીક ક્ષણો વિતાવીને મારે જિંદગી પ્રત્યે હળવા થવું છે,
શીત પવનમાં કોઈને ન કહેલી મનની વાતો આજે મારે આ પ્રકૃતિને કરવી છે,
પક્ષીઓ,મંદ ગતિના સમીર સાથે આજે વાર્તાલાપ કરવો છે,
અને એને પણ અહેસાસ અપાવવો છે,
કે જો કોઈ નહીં હોય ને તારી વાત સાંભળવા માટે,
તો હું તો જરૂર હોઇશ તારી સાથે,
ક્યાંક કોઈ ઉંચે પર્વતે બેસીને જાત નિરીક્ષણ કરવું છે!!

और पढ़े