name _ jaydip khachriya

आधा चांद....
आधा इश्क....
आधी सी है बंदगी....

मेरे हो और मेरे नहीं.......
कैसी है यह जिंदगी.........! .

सच्चाई और अच्छाई की
तलाश में चाहे पुरी दुनिया
घूम लो…

अगर वह _'खुद'_ में नहीं

तो कहीँ भी नहीं...

#cp

दुश्मनी हो जाती है मुफ़्त में सैकड़ों से 'साहब'..,

इंसान का बेहतरीन होना भी एक गुनाह है..।।

#cp

साथ वही है जो...

दूर रह कर भी महसूस होता है....

मुस्कुराहटें झूठी भी हुआ
करती हैं यारों

इंसान को देखना नहीं...."
बस समझना सीखो...

भीड़ में कही
खो सी गयी
हस्ती हमारी है...




खुद में, खुद से,
खुद को ढूँढने की
जंग जारी है...

और पढ़े

चाय सिर्फ़ चाय नहीं दवा भी है
दुख की,दर्द की,मोहब्बत की.

आग लगाने वालों को कहाँ है ये खबर,

रुख हवाओं ने बदला तो खाक वो भी होंगे।

जख्म देकर ना पूछा करो दर्द की शिद्दत,
दर्द तो दर्द होता है,
थोड़ा क्या,
ज्यादा क्या!!