Hey, I am on Matrubharti!

Laxman Vadher बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी ब्लॉग
5 महीना पहले

जाने कभी गुलाब लगती हे
जाने कभी शबाब लगती हे
तेरी आखें ही हमें बहारों का ख्बाब लगती हे
में पिए रहु या न पिए रहु,
लड़खड़ाकर ही चलता हु
क्योकि तेरी गली कि हवा ही मुझे शराब लगती हे
???????

बेपना मोहबतें -

और पढ़े

सब कुछ मिला सुकून की दौलत न मिली;
एक तुझको भूल जाने की मोहलत न मिली;
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर;
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत न मिली।????

बेपना मोहबतें -

और पढ़े
Laxman Vadher बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी लोक संगीत
6 महीना पहले

माखन चुराकर जिसने खाया, बंसी बजाकर जिसने नचाया, ख़ुशी मनाओ उसके जन्म की, जिसने दुनिया को प्रेम सिखाया। कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!

और पढ़े
Laxman Vadher बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी लोक संगीत
6 महीना पहले

वो मोर मुकुट, वो है नंद लाला, वो मुरली मनोहर, बृज का ग्वाला, वो माखन चोर, वो बंसी वाला, खुशियां मनायें उसके जन्म की, जो है इस जग का रखवाला। कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनायें!

और पढ़े
Laxman Vadher बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी मजेदार
6 महीना पहले

दर्द की महफ़िल में एक शेयर हम भी अर्ज़ किया करते हैं;
न किसी से मरहम न, दुआओं कि उम्मीद किया करते हैं;
कई चेहरे लेकर लोग यहाँ जिया करते हैं;
हम इन आँसुओं को एक चेहरे के लिए पिया करते हैं|

और पढ़े

हर खामोशी का मतलब इंकार नहीं होता;
हर नाकामयाबी का मतलब हार नहीं होता;
तो क्या हुआ अगर हम तुम्हें न पा सके;
सिर्फ पाने का मतलब प्यार नहीं होता!

और पढ़े
Laxman Vadher बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी मजेदार
6 महीना पहले

कोई खुशियों की चाह में रोया
कोई दुखों की पनाह में रोया..
अजीब सिलसिला हैं ये ज़िंदगी का..
कोई भरोसे के लिए रोया..
कोई भरोसा कर के रोया..
???????

बेपना मोहबतें -

और पढ़े

बिन बताये उसने ना जाने क्यों ये दूरी कर दी;
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी;
मेरे मुकद्दर में ग़म आये तो क्या हुआ;
खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी।

और पढ़े
Laxman Vadher बाइट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी रोमांस
6 महीना पहले

चुराकर दिल मेरा वो बेखबर से बैठे हैं;
मिलाते नहीं नज़र हमसे अब शर्मा कर बैठे हैं;
देख कर हमको छुपा लेते हैं मुँह आँचल में अपना;
अब घबरा रहे हैं कि वो क्या कर बैठे हैं।

और पढ़े

हुआ जब इश्क़ का एहसास उन्हें;
आकर वो पास हमारे सारा दिन रोते रहे;
हम भी निकले खुदगर्ज़ इतने यारो कि;
ओढ़ कर कफ़न, आँखें बंद करके सोते रहे।

और पढ़े