Hey, I am on Matrubharti!

सच्चा प्रेम- मजनु लैला का दीवाना था। एक बार राजा ने मजनु से कहा क़ि लैला तो बिल्कुल सुंदर नही है क्यों उसके पीछे पागल हो मै तुम्हे एक से एक सुंदर स्त्रीया उपलब्ध करा सकता हूँ। तब मजनु बोला कि लैला को समझने के लिये तुम्हे मजनु के नेत्रो की जरूरत है। तभी तुम समझ सकते हो कि लैला मेरे लिये क्या है।

और पढ़े

समर्पण हमेशा कीजिये, सभ्य मानव के प्रति।
जिसके प्रति समर्पण होता, वैसी होती गति।

सिद्धार्थ की करुणा।

कितने आश्चर्य की बात है कि वेदों की बहुत सी ऋचाये स्त्रियों ने लिखी है। वह लोपमुद्रा, अपाला, यमी, शश्वती, मेधा इत्यादि थी। आगे चलकर वेदों को स्त्रियों के पड़ने पर की रोक लगा दी गई।

और पढ़े

सीरियल जय हनुमान- मधुर धुनि।

गौतम बुद्ध का अनमोल ज्ञान।

मै जब भी अशांत या दुखी होता हूँ अपने प्रभु श्री कृष्ण की अमृत वाणी भगवतगीता सुनता हु। देखता हु।