Hey, I am on Matrubharti!

जब उठें प्रेम की सरगोशियाँ फिजाओं में
मौन मुखरित हुई खामोशियाँ हवाओं में
पीत पट मोर मुकुट अधर जब धरे बंशी
मार का ज्वार उठे जिन्दगी शिराओं में

कुबेर मिश्रा

और पढ़े

डूबने वाले को तिनके का सहारा ही बहुत
पर कहीं दलदल में डूबे तब कहावत व्यर्थ है

कुबेर मिश्रा

● पुकारती है जन्म भूमि राम की ●
~~~~~~~~~~~~~~~~~
उठो प्रवीर स्वाभिमान के लिए
अनादि आर्य आन बान के लिए
निहारती है लाज आर्य नाम की
पुकारती है जन्म भूमि राम की

कहाँ गयी वो आर्य पुत्र गर्जना
शिथिल पड़ी है देव गेह सर्जना
अनाथ आस्था हुयी प्रहार से
उबाल रक्त में नहीं निहार से
अधीर भूमि सूर्य वंश घाम की
पुकारती है जन्म भूमि राम की

महान वंश के महान वीर तुम
प्रदीप्त राम के अमोघ तीर तुम
बढ़ो अवध सुभूमि सिन्धु ज्वार बन
मरुत तनय समान वेगवान जन
पयोधि हठ प्रचंड ज्वाल राम की
पुकारती है जन्म भूमि राम की

बना सके न छत्र राम शीश पर
करो नहीं भरोष अब महीश पर
निशीथ हाथ आर्य पुत्र खुद गहो
सदी अनेक जा चुकी न अब सहो
हटे समग्र राह पथ विराम की
पुकारती है जन्म भूमि राम की

कुबेर मिश्रा
https://www.amazon.com/gp/f.html?C=1HL79HXAM79C4&M=urn:rtn:msg:201905011542135166c2cda6a741659f116d1cd1c0p0na&R=2VD37YY45Q29O&T=C&U=https://www.amazon.com/-/e/B07R81FCJ4?ref_=pe_1724030_132998070&H=RMEDMEHKB8TW8MEQQ5BPAPEMDAMA&ref_=pe_1724030_132998070

और पढ़े

कब फकीरी समझ पायेगी व्यथा इन्सान की ?

शम्भु जटाओं से आच्छादित
मनभावन सावन आया
शिव अभिषेक उमंग गंग
नभ मंडल आँचल लहराया

Kuber Mishra

राष्ट्रभाषा के गौरव पे उँगली उठा
बारिसें कीचड़ों की नजर आती हैं
स्वप्न में बिल्लियों के निरामिष नहीं
दावतें छीछड़ों की नजर आती हैं

काग हंस के पंख नोचने जन मंदिर तक पहुँच गये
स्वर साम्राज्ञी के जादू से खर षटराग मिलायेंगे

कुबेर मिश्रा

और पढ़े

झर झर झर निर्झर झरत मरुत झकोरत पात
तरनि तमकि जिमि सर्पिणी चली धरनि लहरात KUBER MISHRA

छेड़ रहा था रवि मुआ, अवनी बदन निहार।
बिछा गयी चूनर हरित, मेह अश्रु बौछार।।

कुबेर मिश्रा

समंदर कुछ नहीं लेता लुटा देता पलट कर सब
बरसता जिन्दगी बनकर निगलकर खुस्कियाँ सारी

सूरज जो जल रहा है जीवन ही सोख लेता
पर लड़ रहा समंदर घन गर्ज आसमाँ तक

Kuber Mishra

और पढ़े

कब मिला है जिन्दगी में हार से अच्छा सबक
फाड़कर पत्थर का सीना जो बना देती सड़क
जीत में भी हार है और हार में भी जीत है
पड़ गले जश्न ए जवानी पल गये विपरीत है

हार से कुछ सीख ले लो हार से तौबा करो
हार से विचलित जवानी लक्ष्य से सौदा करो
बिघ्न टिक पाता है कब मानव के दम के सामने
वायु क्षिति जल भू अनल बेबस हैं खम के सामने

जीत उन्मादी नहीं नैतिक विजय का गीत है
पतझरी पत्ते उड़ाती प्रकृति का संगीत है

कुबेर मिश्रा
https://www.amazon.com/gp/f.html?C=1HL79HXAM79C4&M=urn:rtn:msg:201905011542135166c2cda6a741659f116d1cd1c0p0na&R=2VD37YY45Q29O&T=C&U=https://www.amazon.com/-/e/B07R81FCJ4?ref_=pe_1724030_132998070&H=RMEDMEHKB8TW8MEQQ5BPAPEMDAMA&ref_=pe_1724030_132998070

और पढ़े