Be The One Who You Are ...

जिंदा को शान में रहने दे ..
मुर्दो को शमशान में रहने दे ...

कैद न कर परिंदो को पिंजरों में ..
थोड़ी हलचल आसमान में रहने दे ...

और पढ़े

तलप-ए-चाय ..
तु मुजे रोज इस कदर तंग करती है ..
तु मुझे रोज मेरी नींद से अलग करती है ...

यूं चाय पे हमे बुलाया ना किजिए ..
चाय के बहाने यूं हमे तड़पाया ना किजिए ..

हमे मालूम है कि
पता है आपको हमारी कमजोरी ,,

पर जनाब
यूं कमजोरी का फायदा उठाया ना किजिए

और पढ़े

परो को खोल जमाना उड़ान देखता है ..!

जमीन पे बैठ के क्या आसमान देखता है ...!

हाँ कुछ खास नही पर हम में अंतर बहोत है ..!
में रहा"chaay" का दीवाना ,
उसे "coffee" पसंद है ..!!

हमारा तीर कुछ भी हो निशाने तक पहोचता जरूर है ..
चाहे कोई भी मौसम हो परिंदा ठिकाने तक पहोचता जरूर है ...!!

हा इजाजत है अगर कोई कहानी और है ..
जरा रुकिए जनाब इन प्यालीओ में अभी थोड़ी सी चाय और है ...!!

नजरो से इशारे रुख पर नकाब होता है ..!
थोड़ा थोड़ा ही सही हर कोई खराब होता हैं ...!!

जिंदा रहते हुए अगर मरने का अहसास चाहिए ,,
तो जनाब आप सीधा महोब्बत के पास जाइये ..

वो सुना रहे थे अपनी वफाओ के किस्से ,
हम पर नजर पड़ी तो खामोश हो गए ...