Hey, I am reading on Matrubharti!

कत्ल करके जाता तो ..
दुनिया की नजरों में आ जाता _
कातिल शातिर था ..
मोहब्बत करके छोड़ गया ___।।

"तुम ख़ुद उलझ जाओगे मुझे ग़म देने की चाहत में,
मुझमें हौंसला बहुत है मुस्कुराकर निकल जाऊँगी

*इश्क़ वो नहीं जो तुझे*
*मेरा कर दे..*

*इश्क़ वो है जो तुझे*
*किसी और का ना होने दे...*

ढूंढा करोगे हर किसीमे देखना वो मंजर भी आयेगा,
हम याद भी आयेंगे और आँखों में समंदर भी आयेगा !!

कह दो ना इस ददॅ को तुम्हारी तरह बन जाये... ना मुझे याद करें और ना मेरे करीब आये......

किसने कहा.... बढती उम्र, सुन्दरता को.... कम करती है... ये तो बस...चेहरे से उतरकर... दिल में आ जाती है....

*हलके हलके बढ़ रही है चेहरे की लकीरें,*

*नादानी और तजुर्बे का बटवारा हो रहा है..!!!*

*कितनों ने खरीदा सोना*
*मैने एक 'सुई' खरीद ली*

*सपनों को बुन सकूं*
*उतनी 'डोरी' खरीद ली*

*सबने बदले नोट*
*मैंने अपनी ख्वाहिशे बदल ली*

*'शौक- ए- जिन्दगी' कम करके*
*'सुकून-ए-जिन्दगी' खरीद ली...*

*माँ लक्ष्मी से एक ही प्रार्थना है..*

*धन बरसे या न बरसे..*
*पर कोई गरीब..*
*दो रोटी के लिए न तरसे..*

*🙏🏻अलविदा दीपावली 🙏🏻*

और पढ़े

इश्क की रिवायतों को निभाना नहीं आया
मुझे रूठना नहीं आया तुम्हें मनाना नहीं आया…

*तेरी दोस्ती से मिली है, मेरे वजूद को ये शोहरत...!*

*मेरा जिक्र ही कहाँ था, तेरी दास्तां से पहले...!!*