हम लिखने आते हैं तुम्हें खुश करने नहीं

जी में आता है
तेरे दामन में सर छुपा के हम

रोते रहें ....... रोते रहें ....