Hey, I am reading on Matrubharti!

आज भी तुम्हे याद करके
वो एक शख्स रोया होगा
तेरी यादो की कश्ती ले के
सपनो के नगर में सोया होगा
बहोत तडपा होगा उस
ऐक वक्त को याद करके
जब उसने तुम्हारा दामन छोडा होगा
सुप्रभात
हेमांगी

और पढ़े

रूठी हूई जिंदगी से कठीन है रूठे हूऐ अपनो को मनाना
सुप्रभात
हेमांगी

अक्सर दिल की बात ,भड़ास लोग बातो बातो मे निकाल देते है
ओर फिर हंस कर कहते है कि वो तो सिर्फ एक "मजाक" था
शुभदिन
हेमांगी

और पढ़े

इत्तिफाक से इत्तेफाक हो गया
जो चेहरा आज तक दिल में था
वो आज नजरो के सामने आ गया
हेमांगी

ये दिल कभी खाली कहा रहेता है!
कभी अधूरे अरमान बस्ते है
तो कभी अधूरे रहे रिश्ते की याद
हेमांगी

नजरो को नजरो से बचा के रखिए
नजरो को किसी की नजर ना लगे
हेमांगी

वो सडक आज भी सूनी सूनी सी लगती है,
हमारे राश्ते बिछड गऐ या ये सडक तूटी है ।
हेमांगी

जेसे जेसे उम्र बढती है
मासूमियत जवा होती है
हेमांगी

मुस्कान की वजह मत ढूंढो
किसी की मुस्कान की वजह बनो
सुप्रभात
हेमांगी

जख्म दिखते कम पर चुभते ज्यादा है

हेमांगी