Hey, I am reading on Matrubharti!

देने वाले ने कुछ सोच कर ही दिया होगा | हदसे ज्यादा तो खुद को चाहिए तभी तो होती है तकलीफ | बाकी जैसा मीला वो बहेतर न समझे इसलिए | वरना खुद के जीवन से कुछ बहेत है ही नहीं |...ॐD

और पढ़े