Welcome to DK"s World...

शब्दों के तीर सीने को छल्ली ना कर दे ....

हसती आंखो में कंही पानी ना भर दे ...

ये इश्क नामा है जरा संभलकर पढीयेगा ...

यादों को भारी, नींदो को खाली ना कर दे ....

और पढ़े

मुडे मुडे से है ....किताब- ए-इश्क के पन्ने...
ये कौन है ..!!! जो हमें हमारे बाद पढता है...

कभी-कभी जरा सा ही होता है.......
मगर उम्र भर रहेता है.....
एक बूंद इश्क़...

ये किसने दस्तक दी है दिल पर... कौन है..!!!
अरे.. अंदर तो आप है.. ये बाहर कौन है...!!!

चांद भी हैरान.. दरिया भी परेशानी में है...
अक्स किसका है कि इतनी रौशनी पानी में है...

बड़ा गजब किरदार है...
महोब्बत का...
अधुरी हो सकती है
पर ...खत्म नही...

कुछ अपनो ने कुछ गैरो ने सिखाया...
कुछ दोस्तों ने कुछ दुश्मनों ने सिखाया...
तजुर्बा सीखने का चलता रहा उम्रभर...
बाकी था वो सबकुछ वक्त और जिंदगी ने सिखाया...
Happy Teacher's Day

और पढ़े