हिंदी उपन्यास प्रकरण कहानियाँ मुफ्त में पढ़ेंंऔर PDF डाउनलोड करें

अरमान दुल्हन के - 16
द्वारा एमके कागदाना

अरमान दुल्हन के भाग 16सरजू अगले ही दिन कविता को मायके छोड़ आया और खुद गांव चला गया। पार्वती ने खूब हु हल्ला किया। "मां तैं चाहवै के सै (आप ...

बागी आत्मा 1
द्वारा रामगोपाल तिवारी (भावुक)

बागी आत्मा 1   रचना काल-1970-71            उपन्यास                                                   रामगोपाल भावुक                                           सम्पर्क- कमलेश्वर कोलोनी (डबरा)                                                          भवभूतिनग

क्राइम नम्बर 77 19 - 7
द्वारा RISHABH PANDEY

“शहर के भोले भाले व्यापारियों से उगाही के उद्देश्य से पुलिस कर रही है व्यापारियों का उत्पीडन, बिना किसी ठोस सबूत के कपड़ा व्यापारी को झूठे केस में फंसाया”............एक ...

बड़े बाबू का प्यार - भाग 8 14:प्यार का पंचनामा 
द्वारा Swapnil Srivastava Ishhoo

भाग 8/14:प्यार का पंचनामा मुर्दाघर की एक बेंच पर बेसुध सा बैठा मंदार अपनी पूरी कहानी सुना चुका था| सुबह होने को थी और मंदार का नशा पूरी तरह उतर ...

नकटी - भाग 1
द्वारा Rohitashwa Sharma

संजय रास्ता पूछता हुआ देवीपुरा की तरफ जा रहा था। सड़क पर देवीपुरा का बोर्ड देखकर समझ गया कि देवीपुरा पास ही है। उसने बोर्ड मेंदिखाई दिशा में मोटरसाइकिल ...

आदमी का शिकार - 17
द्वारा Abha Yadav

    "अंकल, लाश योका को दे दीजिए."नूपर ने रतन से कहा."योका, लाश उठा लो."जमीन पर रखी लाश की ओर रतन ने इशारा किया."योका भाई,तुम लाश लेकर चलो.मैं अंकल ...

29 Step To Success - 3
द्वारा Wr.MESSI

Chapter - 3Value of Time. समय का महत्व,समय चक्र है घूमता , करता सबका न्याय ।कोई इससे बच सके , ऐसा नहीं उपाय ।।दुनिया में हर चीज समय पर आधारित ...

जीवन अमूल्य हैं - 2
द्वारा Harsh Parmar

गूगल पर माईकल जैक्सन को  8 लाख लोगों ने सर्च किया।ज्यादा सर्च करने कारण गूगल सबसे ज्यादा ट्रैफिक जाम हुआ और गूगल क्रेश गया।ढाई घंटे तक गूगल काम नहीं ...

महाकवि भवभूति - 13
द्वारा रामगोपाल तिवारी

महाकवि भवभूति  13 भवभूति का कन्नौज प्रस्थान श्रेष्ठः परमहंसानां महर्षीणां यथाडि.गराः।  यथाथर््ानामा भगवान् यस्य ज्ञाननिधिर्गुरुः।।                 यह प्रसिद्ध श्लोक ध्यान में आते ही महाराज यशोवर्मा सोचने लगे- महाकवि भवभूति ...

ये कैसा संन्यास - भाग 11
द्वारा Neerja Pandey

                             अनमोल की  क्लास  रेग्युलरली     चलने  लगी थी । वो  रोज ही तनय के  साथ ...

कैसा ये इश्क़ है....? (भाग -4)
द्वारा Apoorva Singh

उन्हे बेवजह हंसते हुए जवाब देते देख अर्पिता उनसे कहती है...।लगता है टेलीविजन पर वो क्लोज अप वाला एड बहुत देखते हो।तभी बिना वजह दांत निकल आते है।बात तो ...

अरमान दुल्हन के - 15
द्वारा एमके कागदाना

अरमान दुल्हन के भाग-15सुशीला उसका गला दबा रही थी ।दम घुटने लगा तो हड़बड़ाकर उठ बैठी।"ओह सुपना था, ओफ् ओ! इनतैं तो बचके रहणा पड़ैगा, कोय भरोसा ना सै ...

मिसमैच_द_चार्जिंग_प्वाइंट - भाग 1
द्वारा saurabh dixit manas

#मिसमैच_द_चार्जिंग_प्वाइंट     #भाग_1               एक्सक्यूज मी! आपके पास फोन का चार्जर होगा क्या?“ अहमदाबाद एअरपोर्ट के वेटिंग रूम में चारजिग प्वाइंट के पास,आँखों पर ...

किरदार - 5
द्वारा Priya Saini

माँ अंजुम को गले लगाकर रो रही है, अंजुम भी रो रही है पर अब उसने माँ से कुछ न कहा। अंजुम के पिता की आँखें भी नम हैं। माँ: ...

कर्म पथ पर - 82 - अंतिम भाग
द्वारा Ashish Kumar Trivedi

                        कर्म पथ पर                       Chapter 82माधुरी ने दरवाज़ा ...

इस रिस्ते को क्या नाम दुँ ? - 3
द्वारा Kalpana Sahoo

       part-2 में आप पढे हैं की मतलब के आगे प्यार हार जाती है और स्रुती एकदम् से अकेली पड जाती है । अब आगे........        ...

बड़े बाबू का प्यार - भाग 7 14: तब भी था...आज भी..
द्वारा Swapnil Srivastava Ishhoo

भाग 7/14: तब भी था...आज भी..बातों –बातों में कब नींद लग गई पता ही न चला....छह –सात ग्लास का सुरूर कम होता है क्या? कंडक्टर ने जब पाली उतरने ...

ज़िन्दगी के सफ़र में - 1
द्वारा Ritu

भाग -1 दोस्तो ये कहानी है किसी के संघर्ष की, किसी के अटूट विश्वास की, एक ऐसे रिश्ते की जिसमें इज़त ओर स्नेह भरपूर है और इन्हीं सबसे लबरेज़ है ...

त्रीलोक - एक अद्धभुत गाथा - 4
द्वारा Prapti Timsina

त्रीलोक - एक अद्धभुत गाथा (उपन्यास)4सबलोग एयरपोर्ट पोहोचते है। वो लोग एयरपोर्ट के अंदर चलते है। सब लोग अपनी अपनी सूटकेस चेकिंग के लिए देते है। सूटकेस चेकिंग के बाद ...

आदमी का शिकार - 16
द्वारा Abha Yadav

    नूपर और योका को जंगल में भटकते हुए कई दिन हो गए थे. लेकिन, शिकार के लिए युवक अभी तक नहीं मिला था.विदेशियों के आने म़े केवल ...

महाकवि भवभूति - 12
द्वारा रामगोपाल तिवारी

महाकवि भवभूति  12                         दर्शकदीर्धा से महावीरचरितम्                पद्मावती नगरी में नाट्यमंच की सजावट देखते ही बनती थी। मृण्मूर्तियें से उसकी सजावट युग-युगों की कहानी कह रही थी। पत्थर ...

ये कैसा संन्यास - भाग-10
द्वारा Neerja Pandey

                                          मां पापा और परी के जाने      ...

कर्म पथ पर - 81
द्वारा Ashish Kumar Trivedi

                         कर्म पथ पर                        Chapter 81मदन और ...

बड़े बाबू का प्यार - भाग 6 14: ग्यारह बीस की बस
द्वारा Swapnil Srivastava Ishhoo

भाग 6/14: ग्यारह बीस की बस“अरे वाह बड़े-बाबू, दस साल में तो याद न आई....आज हमने बात करा दी तो हम पर ही नाराज़गी....”मंदार चुटकी लेटे हुए बोला|थोड़ी देर ...

जैसलमेर बोर्डर - 2
द्वारा Deeps Gadhvi

अधुरे ख्वाब और अधुरी ख्वाहिशे जब तक पुरी नहीं होती तब तक हमें चैन नहीं पड़ता और मेरे साथ भी ऐसे ही हुआ जब में बोर्डर पर पहोचा और ...

इस रिस्ते को क्या नाम दुँ ? - 2
द्वारा Kalpana Sahoo

    अबतक आप पढे हैं की स्रुती को दुबारा प्यार हो जाती है, वो भी अपने साथ काम करनेबाला एक लेडका से । अब आगे........       इस ...

आदमी का शिकार - 15
द्वारा Abha Yadav

   नूपर नहीं चाहती थी कि पड़ोसी कबीले के लोग बेकसूर मारे जायें. लेकिन ,उसे समझ नहीं आ रहा थाकि उन्हें कैसे बचाये. तभी उसके दिमाग में एक विचार ...

अरमान दुल्हन के - 14
द्वारा एमके कागदाना

अरमान दुल्हन के भाग-14सरजू एक सप्ताह बाद अलग कमरा लेकर कविता को ले आया।  हालांकि सैलरी कम थी । बहनों की शादी में बैंक से लॉन लिया था।  बैंक ...

Peacock - 3
द्वारा Swatigrover

  “सोई  नहीं  पीकॉक   क्या सोच रही है ? “ नानी  ने प्यार से सिर  पर हाथ फेरते  हुए पूछा ।  “नानी बाबा  समझते नहीं है कि  मैं  डांस ...

कर्म पथ पर - 80
द्वारा Ashish Kumar Trivedi

                          कर्म पथ पर                         Chapter 80साधुओं ...

महाकवि भवभूति - 11
द्वारा रामगोपाल तिवारी

महाकवि भवभूति  11 भवभूति के कालप्रियनाथ्र                दुर्गा आज पहली बार पार्वतीनन्दन जी के घर जा रही थी। चित्त में द्वन्द्व चल रहा था- कहीं मेरा विवाह पार्वतीनन्दन के ...

तानाबाना - 15
द्वारा Sneh Goswami

  तानाबाना 15   रवि की जब सगाई हुई , तब वह मुश्किल से पंद्रह साल का था और उसकी मंगेतर बारह या तेरह की रही होगी । यह ...