हिंदी हास्य कथाएं कहानियाँ मुफ्त में पढ़ेंंऔर PDF डाउनलोड करें

पृथ्वीराज तृतीय शाकंभरी चौहान शासक
द्वारा Dr. Bhairavsinh Raol

सातवीं शताब्दी के दौरान प्रतिहारो के एक सामंत वासुदेव ने शाकंभरी में चौहान वंश की स्थापना की थी। शाकंभरी नगर सांभर और अजमेर के निकट अवस्थित है। चौहान शासकों ...

मध्यकालीन युग में गुजरात में चालुक्य शासन:
द्वारा Dr. Bhairavsinh Raol

मध्य कालीन युग में गुजरात में चावड़ा राजवंश के राजपूतों राजाओं ने ६९० से ९४० (२५०वर्ष) तक; चालुक्य राजवंश के राजाओ ने ईस्वी ९४० से १२४३(३०३ वर्ष ) और ...

अंधविश्वास
द्वारा प्रियंका

सन 2017 में राजस्थान में एक आतंक फैला था, जिसका नाम था -"गंजी देवी का आतंक" सब कुछ ठीक चल रहा था। बच्चों को गर्मियों की छुट्टियां हो गई ...

सिखों के नाम के पीछे सिंह और कौर क्यों और कब से लगाया जाता है?
द्वारा Dr. Bhairavsinh Raol

सिखों द्वारा सिंह उपनाम अपनाया जाने सेका इतिहास:सिख समुदाय में सिंह शब्द का इतिहास ज्यादा पुराना नहीं है।आज प्रत्येक सिख के नाम के पीछे सिंह शब्द का प्रयोग किया ...

यशवंत कोठारी के पञ्च
द्वारा Yashvant Kothari

यशवंत कोठारी के पञ्च    निवासी यशवंत कोठारी जी Yashwant Kothari अध्यापक, लेखक, घुमक्कड़, उपन्यासकार सामाजिक कार्यकर्ता व्यंग्यकार मने क्या नहीं हैं। मतलब बहुमुखी प्रतिभा के धनी हैं। उन्होंने हमारे ’पंचबैंक’ ...

ઉધાર લેણ દેણ - 4
द्वारा Mansi

ભાગ ૪ અત્યાર સુધી આપણે જોયું કે મીરા ના ઘર નો દરવાજો ખટ ખટ થાય છે. તેમને ખોલ્યું તો શીલા અને ગિરીશ જ હતા . હવે આગળ ની વાર્તા ...

ઉધાર લેણ દેણ - 3
द्वारा Mansi

ભાગ ૩ અત્યાર સુધી તમે જોયું કે ગિરીશ અને શીલા મફત માં રામ ના પૈસે ફિલ્મ જોઈ ને ઘરે આવ્યા .પાછા ગિરીશ ભાઈ રામ ને ફિલ્મ ની ટિકિટ ના ...

एक लव लैटर जो धड़कन बढ़ा दे
द्वारा Megha Rathi

एक लव लैटर, जो धड़कन बढ़ा देसुनो न मेरी ओरिजनल पत्नी,कितने दिनों से नाराज हो तुम... अभी जाने कब तक रहने का इरादा है तुम्हारा,ये तुमको ही पता होगा ...

ઉધાર લેણ દેણ - 2
द्वारा Mansi

ભાગ ૨ ગિરીશ અને શીલા પોતાના ઘરે આવી ને વાત કરે કે આ આપડા નવા પડોશી તો સારા લાગે છે ,શીલા એ કહ્યું હાં મને બી એવું જ લાગે ...

ઉધાર લેણ દેણ - 1
द्वारा Mansi

ભાગ ૧ :- હસવું તે આપના શરીર માટે ખૂબ જરૂરી છે . હસતા રેહવા થી આપનું દુઃખ અડધું થઇ જાય છે અને આપણી સેહત સારી રહે છે તો ચાલો ...

कोई दुःख ना हो तो बकरी लो....
द्वारा Saroj Verma

उन दिनों दूध की तकलीफ थी. कई डेरी फर्मों की आजमाइश की, अहीरों का इम्तहान लिया, कोई नतीजा नहीं. दो-चार दिन तो दूध अच्छा, मिलता फिर मिलावट शुरू हो ...

मैं भारतीयों को जानता हूं, वे मेरे मरने पर आंसू नहीं बहाएंगे
द्वारा Jatin Tyagi

वह अपने अंतिम दिनों में कहा करते थे, 'हिंदुस्तान की हॉकी ख़त्म हो गई है। ख़िलाड़ियों में डिवोशन (लगन) नहीं है। जीतने का जज़्बा ख़त्म हो गया है।' अपनी ...

भैया जी का कैंडल मार्च
द्वारा Arun Singla

“अरे जल्दी से आ जाओ, कैंडल मार्च शुरू होने वाला है,” भैयाजी ने नीचे सड़क से हमे ऊपर देखते हुए कहा। वे खुशी से फुले नही समा रहे थे, ...

मासूम एडवेंचर
द्वारा Arun Singla

मासूम एडवेंचर हमारी भाभी जी हाउस वाइफ हैं,और अपने घर परिवार में मस्त रहती हैं, या यूँ कहिये की उनकी दुनिया परिवार, रिश्तदारों, सगे सम्बन्धियों, और मेड तक ही ...

शॉपिंग का ज्ञान
द्वारा Arun Singla

“भाई एक फडकती हुई खबर तुझे देनी है, खुश हो जा“ फ़ोन पर मेरा दोस्त तरुण चहचहा रहा था “क्यों, तेरे घर दीपिका आ रही है” “हाय, ऐसी किस्मत ...

भारतीय रेल: सुविधा में दुनिया नंबर एक
द्वारा Arun Singla

हेरान ना हों, कि हमारी भारतीय रेल और सुविधा देने में विश्व में नंबर एक, हो ही नहीं सकता. बिलकुल हो सकता है, बल्की हुआ है, यकीन नहीं होत्ता ...

खाली दिमाग
द्वारा Megha Rathi

खाली दिमागसब कहते है खाली दिमाग शैतान का घर होता है। सुना तो मैंने भी यही है मगर ये दिमाग कभी खाली होता भी है क्या? वो क्या है ...

एक राजा की बेटी वेश्या कैसे बनी
द्वारा Jatin Tyagi

भारत में राजाओं के ऐसे कई किले हैं, जो अपने आप में एक अनूठी कहानी समेटे हुए हैं। यह किले भारत की शान तो कहे जाते हैं, साथ ही ...

शादी का लड्डू
द्वारा Saroj Prajapati

"सभी लड़कियां एक जैसी नहीं होती हैं। कब तक तू अकेला मम्मी पापा की देखभाल करेगा! तुझे जरूरत हो ना हो लेकिन उन्हें एक बहू की जरूरत है। तू ...

मालगाड़ी का सफ़र - 3 (अन्तिम भाग )
द्वारा शिव प्रसाद

भाग - ३ ( अन्तिम भाग ) मालगाड़ी को रुके कुछ देर हो चुकी थी, लेकिन डिब्बे के भीतर की शून्यता शायद विनोद के दिमाग में भी फैल गई ...

मालगाड़ी का सफ़र - 2
द्वारा शिव प्रसाद

भाग - २... क्वारीसाइडिंग स्टेशन को देखकर लगता था कि रेलवे प्राधिकरण ने इसके निर्माण का प्रारम्भ करने के बाद इसे प्रारम्भिक अवस्था में ही छोड़ दिया । ढाई ...

फेसबुकिया पर्यावरण विशेषज्ञ
द्वारा Archana Anupriya

"फेसबुकिया पर्यावरण विशेषज्ञ"कोरोना ने और जो भी क्षति समाज को पहुँचायी हो, एक काम तो बहुत अच्छा किया है कि रातों-रात सोशल मीडिया पर पर्यावरण विशेषज्ञों की बाढ़ सी ...

विलेन्स की महफ़िल...
द्वारा Saroj Verma

रात बारह बजे काली पहाड़ी पर बने, मातृभारती फाइवस्टार क्लब में पार्टी का आयोजन हुआ,सभी नए पुराने विलेन को न्यौता पहुँचा.... सबसे ज्यादा जल्दी मची थी रंजीत साहब को ...

मालगाड़ी का सफ़र - 1
द्वारा शिव प्रसाद

भाग १ ... विनोद को फ़िल्में देखने का बहुत शौक़ था । उसका बस चलता, तो रोज़ एक फ़िल्म देख लेता । लेकिन तब, यानी १९७० के दशक में ...

जुबाँ पे लागा रे जायका चुगली का...
द्वारा Saroj Verma

चुगली चुगलखोरों का हेल्थ टाँनिक है,चुगलखोर कभी भी इस टाँनिक के बिना नहीं रह सकते ,चुगली उनके लिए सबसे बड़ा योग है व्यायाम है,चुगली करने से मस्तिष्क संतुलित रहता ...

एक संदेश...
द्वारा Saroj Verma

रात बारह बजे का वक्त..... आलू प्रसाद जी के फोन की घंटी बजती है... उन्होंने फोन उठाया और बात करने के बाद उनके चेहरे का रंग उड़ गया, उन्होंने ...

मातृभारती प्रयोगशाला....
द्वारा Saroj Verma

आधी रात का समय करीब बारह बजे होगें,मैं कहीं किसी सड़क पर चली जा रहीं थीं, कहाँ ?ये मुझे खुद नहीं पता था,तभी पीछे से किसी शख्स की लालटेन ...

बैटमैन इन इण्डिया...
द्वारा Saroj Verma

दिल्ली के इन्दिरा गांधी इण्टरनेशनल एयरपोर्ट पर इतनी भीड़ इकट्ठी थी जितनी की तब भी इकट्ठी नहीं हुई थी जब भारत की क्रिकेट टीम वर्ल्डकप जीतकर लौटी थी।। अब ...

होली उमंग
द्वारा Mukteshwar Prasad Singh

1 होली के रंग गुलाल ------------------ होली है डाल,लाल रंग वो गुलाल, लाज शरम आज कहाँ, ना कोई सवाल। बड़ा छोटा एक संग करें मिल बवाल, मस्ती में डूब ...

प्रेम क्या है ?
द्वारा ArUu

कुछ लोगों ने मोहब्बत जैसे पाक रिश्ते को इस हद तक बदनाम कर रखा है की मोहब्बत का नाम सुनते ही लोगों के मन में GF_BF वाली इमेज बनने ...

एक सफर ऐसा भी...
द्वारा Shwet Kumar Sinha

बात करीब बीस वर्ष पुरानी है। मैं अपने माता–पिता और छोटी बहन के साथ लोकल ट्रेन पकड़ दूसरे शहर को जा रहा था। ट्रेन के जिस डब्बे में हम ...

सरकारी संन्यास (हास्य व्यंग)
द्वारा Mohit Trendster

[नोट – यह एक हास्य कहानी है, इसका उद्देश्य किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं है। (स्वयं लेखक कई प्रतियोगी परीक्षाओं में असफल हो चुके हैं।)] आज संवाददाता ...