हिंदी हास्य कथाएं कहानियाँ मुफ्त में पढ़ेंंऔर PDF डाउनलोड करें

लौट के बुद्धू घर को आये (अंतिम किश्त)
द्वारा किशनलाल शर्मा

"मैं तो   छोटे थे तब एक शादी में आये थे।"मरी सी आवाज में उस बुजर्ग ने जवाब दिया था।ड्राइवर ने कंडक्टर से कहा"नीचे उतरकर पता लगाओ ज़रा।"दूल्हे के बड़ा ...

चौकीदार
द्वारा R.KapOOr

बात बहुत पुरानी तो नहीं है। मकरसंक्रांति का दिन था, मैं पतंगे उड़ाने के लिए डोर और पतंगें ले कर छत पर आ गया । चूंकि फ्लैट्स में छत ...

लौट के बुद्धू घर को आये - (पार्ट 2)
द्वारा किशनलाल शर्मा

सालों पुरानी बात है।चार दशक से   ज्यादा हो गए।जून का महीना था।मई और जून तोसुबह धूप निकलते ही गर्मी का प्रकोप बढ़ने लगता जो दिन बढ़ने के साथ मे ...

लौट के बुद्धू घर को आये - (पार्ट 1)
द्वारा किशनलाल शर्मा

बाबानाम   सुनते ही आप  सोचने लगेे        होंगे । केसरिया वस्त्र ,    बड़ी बड़ी  जटा,  हाथ मे कमंडल और चिमटा या  किसी नंग धड़ंग शरीर पर ...

फादर्स डे पर पिता जी की याद में
द्वारा डॉ स्वतन्त्र कुमार सक्सैना

फादर्स डे पर पिता जी की याद में                                                                                               स्‍वतंत्र कुमार सक्‍सेना                  डुकरा करोना पीड़ित वृद्ध के अस्‍पताल में भर्ती के उपरांत स्‍वस्‍थ होने पर घर ...

लूज कंट्रोल
द्वारा Saroj Prajapati

कई दिनों से राजन और गरिमा का मूड एक दूसरे से काफी उखड़ा उखड़ा था। दोनों ही आपस में ढंग से बात नहीं कर रहे थे। सुबह उठकर नाश्ता, ...

गोलोकधाम
द्वारा suraj sharma

न तद्भासयते सूर्यो न शशांको न पावकः ।यद्गत्वा न निवर्तन्ते तद्धाम परमं मम ॥                                ...

टीके की कहानी
द्वारा Anand M Mishra

टीका-टीका-टीका!! आज सभी जगह एक ही चर्चा है। आपने टीका लगवा लिया? जिसने लगवा लिया है वह अपनी बत्तीसी दिखाता है तथा जिसने नहीं लिया है वह मुंह फुलाया ...

प्रजातंत्र का इतिहास
द्वारा Anand M Mishra

कुछ जानकार लोग कहते हैं - प्रजातंत्र की उत्पत्ति ग्रीक शब्द 'डेमोस' से हुई है। डेमोस का अर्थ है 'जन साधारण' और क्रेसी का अर्थ है 'शासन'। लेकिन यह तथ्य ...

हिन्दी या हिग्लिश
द्वारा Alok Mishra

     हिन्दी या हिंग्लिश     भाषाएं रस बदलती है, विलुपत होती है और परिष्कृत होती हैं। भाषाओं के परिवर्तन का सिलसिला हमशा जारी रहता है। वर्तमान में विश्व ...

बहस--परिचर्चा
द्वारा किशनलाल शर्मा

गांव की चौपालों और गली मोहल्लों के चबूतरों से निकलकर बहस टी वी चैनलो पर जा पहुंची है।आज कोई भी न्यूज़ चैनल बहस यानी परिचर्चा से अछूता नही है।धर्म,राजनीति,खेल,फ़िल्म, ...

अन्ना राजनीति में ‘‘मत’’ जाना ....
द्वारा Alok Mishra

अन्ना राजनीति में ‘‘मत’’ जाना ....यह आलेख उस समय की तात्कालीन परिस्थितियो में व्यवस्था पर व्यंग्य के रूप में लिखा गया था जो अनेक अखबारों में प्रकाशित भी हुआ ...

बबन को गड्ढे क्यों पसंद हैं ? (व्यंग्य)
द्वारा Sunil Jadhav

  लेखक- डॉ.सुनील गुलाबसिंग जाधव, नांदेड़ मो.९४०५३८४६७२   मास्टर जी ने कक्षा में एक लोकप्रिय पंक्ति सुनाते हुए कहा, बच्चों अब तुम्हारी बारी | तुम्हे एक कविता करके मुझे ...

ब्रेकिंग न्यूज - रामलाल देश छोड़ेगा (व्यंग्य)
द्वारा Alok Mishra

ब्रेकिंग न्यूज - रामलाल देश छोड़ेगा             अभी-अभी मिले समाचार के अनुसार रामलाल जी  देश छोड़ने पर विचार कर रहे है । हमारे रामलाल जी आजकल बहुत परेशान है ...

११०१
द्वारा Sunil Jadhav

    लेखक-डॉ.सुनील गुलाबसिंग जाधव नांदेड,महाराष्ट्र   मो-९४०५३८४६७२     एक रात सपने में बाबा गूगल द्वारा आकाशवाणी हुई, बेटा यूजर प्रो.बबन जी! सारी दुनिया वेबीनारा कर रही हैं और आप घोर निद्रा में ...

गरीबी और झूठ ( व्यंग्य )
द्वारा Alok Mishra

     गरीबी और झूठ      मंडी के पास एक हम्माल दीनू और ठेला चलाने वाला छोटू कुछ देर बैठे थे । दीनू बोला "आज तो मंडी में ...

अभी तो ये अंगड़ाई है .. ( व्यंग्य )
द्वारा Alok Mishra

अभी तो ये अंगड़ाई है ....         एक दिन शहर की एक रैली में लोग जोर-जोर से नारे लगा रहे थे ‘‘ अभी तो ये अंगड़ाई है.....आगे और लड़ाई ...

कहानी भोला की - (अंतिम भाग )
द्वारा राज कुमार कांदु

पुलिस चौकी से निकल कर भोला एक पार्क के सामने लगे बेंच पर सो गया ।सुबह देर से नींद खुली थी । उठकर अब उसे कुछ काम धाम करने ...

गरीबी सम्मेलन ( व्यंग्य )
द्वारा Alok Mishra

      गरीबी सम्मेलन       शहर के एक आलीशान होटल में गरीबी सम्मेलन का आयोजन किया गया है । देश-विदेश से इस क्षेत्र के विशेषज्ञों को आमंत्रित किया ...

कहानी भोला की - 2
द्वारा राज कुमार कांदु

काफी देर तक आजाद मैदान में घुमते हुए भोला विचार करता रहा । अब क्या करे ? कहाँ जाए ? इतने बड़े शहर में कोई परिचित भी नहीं था ...

कहानी भोला की - 1
द्वारा राज कुमार कांदु

भोला सत्रह साल का एक ग्रामीण युवक था । अपने नाम के अनुरूप ही सीधा सादा और भोला या यूँ भी कह सकते हैं नाम से भी ज्यादा भोला ...

भैंस की उड़ान ( व्यंग्य)
द्वारा Alok Mishra

        भैंस की उड़ान      कहावत तो सुनी होगी " अकल बड़ी या भैंस ।" हमारे आस पास बहुत से लोग हैं जिनके लिए भैंस ही ...

सब मिथ्या है
द्वारा Anand M Mishra

सब मिथ्या है ईश्वर ने सृष्टि के निर्माण के समय लगता है कि अपना दिमाग बहुत चलाया होगा. यदि जगत के पालनकर्ता भगवान विष्णु को देखते हैं तो मन ...

कोई समाचार नहीं..
द्वारा Alok Mishra

        कोई समाचार नहीं ...      भोलाराम जी को समाचार देखे ,सुने और पढ़े बगैर चैन ही नहीं मिलता । यही कारण है देश ही नहीं ...

ईमानदारी का कीड़ा (व्यंग्य)
द्वारा Alok Mishra

ईमानदारी का कीड़ा ( व्यंग्य )       हमारे आस-पास सामान्य लोगों की संख्या बहुत अधिक है । आज के समय में सामान्य वही है जो खुद खाता है ...

नो गधा बनाइंग
द्वारा Alok Mishra

       गधा देश में यूं तो पूरे समय ही राजनीति की बहार रहती है परंतु चुनाव की आहट के साथ ही साथ गधों को गधा बनाने की ...

जुगाड़ (व्यंग्य)
द्वारा Alok Mishra

         जुगाड़       अरे.....आप शीर्षक पढ़कर क्या सोचने लगे? चलिए तो फिर आपकी और हमारी सोच को ही आगे बढ़ाते हैं । हमारा समाज कुछ ...