×

कहानी ओनलाईन किताबें पढ़ें अथवा हमारी ऐप डाऊनलोड करें

    नम्बर वाला आदमी
    by Ajay Kumar Awasthi
    • (3)
    • 41

      जब जिंदगी की पहचान नम्बरों से होने लगे और जीना मशीन के सहारे, तो फिर कोई यकीन किस पर करे और इनसे निपटने के लिये किस तरह अपनी ...

    क्या इतना बुरा हूँ मैं माँ ?
    by Pammy Rajan
    • (4)
    • 58

    " हा तो ,मिस्टर विशाल ,आप अपनी वाइफ की डिलवरी अपने नेटिव प्लेस में करवाना चाहते है।ये तो अच्छी बात है,घर पर उनकी अच्छे से केयर हो जायेगी । ...

    खेल प्यार का...भाग 8
    by Sayra Khan
    • (17)
    • 151

    (वसीम कुछ प्लान बना कर आया है वह वो हम सब समझ गए हैं लेकिन उसके इरादे क्या है अब आगे।)कायनात को रूम पर अकेला छोड़ कर वसीम कहा ...

    तुम मिले - 10
    by Ashish Kumar Trivedi
    • (9)
    • 138

                              तुम मिले (10)खाने के बाद दुर्गेश ने कहानी आगे बढ़ाई.....मुग्धा से शादी होने के बाद सौरभ ...

    भूँख
    by devendra kushwaha
    • (9)
    • 82

    साल 1999 की बात है दीपक एक बेरोजगार युवक था जिसके पास न तो बहुत पैसे थे और न ही उसने कभी मन लगाके पढ़ाई की थी जो उसके ...

    माँ के आंसू
    by shekhar kharadi Idariya
    • (4)
    • 51

    कहते है की , माँ हमारा पहला प्यार होती है, हम उसके रक्त, मज्जा, मांस, अस्थियों, भावनाओं और आत्मा के अहम हिस्से है । जीवन का सबसे पहला स्पर्श ...

    6 जून
    by VIKAS BHANTI
    • (2)
    • 61

    मणिका की नई नौकरी उसे नए जोश से भर रही थी | पर एक डर भी था अनजान शहर जाकर वहां नयी ज़िन्दगी शुरू करना | पति की मौत ...

    खेल प्यार का...7
    by Sayra Khan
    • (22)
    • 308

    कायनात मुस्कुराते हुए बोली! "तुम बहुत पागल हो! हर बार मेरे पास रहने का सोचते हो! "वो प्यार में अंधी कुछ समझ ही नही पाई कि उसके साथ अब क्या होने ...

    आज और कल
    by Alok Sharma
    • (2)
    • 52

    अंकुर के 8वीं का परिणाम घोषित हुआ । अंकुर के दो मित्र आनन्द और अभिषेक उसके घनिष्टट मित्र थे। बातों ही बातों में अभि ने आनन्द से पूछा-‘‘ इस ...

    तुम मिले - 9
    by Ashish Kumar Trivedi
    • (9)
    • 128

                            तुम मिले (9)कई मिनटों तक मुग्धा वैसे ही बैठी रहीं। फिर खुद को संभाल कर उसने सुकेतु ...

    माँ बाप
    by Shubham kumar
    • (3)
    • 43

    मिस्टर गुप्ता मॉर्निंग वॉक के लिए निकले ही थे कि उनके पड़ोसी मिस्टर मुखर्जी भी अपने घर से वॉक के लिए मिस्टर गुप्ता के साथ चल देते हैं। गुप्ता ...

    क़सूर तो तुम्हारा था,फ़िर सजा मुझे क्यों मिली ?
    by Sonia chetan kanoongo
    • (10)
    • 97

    क्या हुआ था तुम्हारे साथ?ये सवाल अभी तक ना जाने कितनी बार निधि के जहन से गुजरा ,पर वो ख़ामोश ही रही ,उसे फिर से उन्ही भावनाओं को महसूस ...

    OUT OF CONTROL - 5
    by Udit Ankoliya
    • (6)
    • 127

    ( पिछली कहानी में देखा कि चक ,स्टेसी ,और जेरी तीनो अपने अपने घर पहुचते हैं अब आगे...)करीब 7 बजे जेरी घर पहुचता हैं । रोबर्ट और टोबी  TV ...

    खेल प्यार का... भाग 6
    by Sayra Khan
    • (22)
    • 257

    प्रस्तावना..... कहानी वसिम और कायनात की प्रेम कहानी है ! मैं इस कहानी को आपके समक्ष पहली बार रजू करने जा रही हूं!  लिखना आता है या नहीं वह तो ...

    तुम मिले (8)
    by Ashish Kumar Trivedi
    • (7)
    • 94

                              तुम मिले (8)गेस्टरूम में बैठी हुई मुग्धा सोंच रही थी कि सौरभ के बारे में उसे ...