×

रोमांचक कहानियाँ ओनलाईन किताबें पढ़ें अथवा हमारी ऐप डाऊनलोड करें

    अप्सरा से शादी
    by Shakti S Nahar
    • (13)
    • 111

      निकल जाओ रूपा। देवराज इंद्र ने रूपा अप्सरा को श्राप देते हुए कहा। तुम्हारा मन स्वर्ग के कार्यों में नहीं लगता। जाओ आज से तुम पृथ्वी लोक में ...

    नीला आईलैंड
    by Roshan Jha
    • (20)
    • 379

    चलिए दोस्तों आज शुरू करते हैं फिर एक रोमांचक सफर और इस कहानी को चालू करते हैं यह कहानी की शुरुआत दूसरे विश्व युद्ध की है मैं रूसी सेना ...

    एक्स रे बाबा
    by VIKAS BHANTI
    • (9)
    • 133

    हाथों में ऐ के 56 थामे जंगलों में भटकना ही हमारी ज़िन्दगी थी, हर पल खतरा रहा करता था कि कब किधर से कोई गोली आएगी और हममें से ...

    फेसबुक एन्ड वोट्सएप्प
    by Ravi Kumar
    • (7)
    • 195

    #Must_Read ?Heart Touching Story ?एक दिन एक लड़की के पास Facebook पर एक लड़के की friend Request आती है...लड़के की Pic देख कर लड़की उसे Cancel कर देती है क्योँकि लड़के की Pic ...

    टाई और धोती
    by Neetu Singh Renuka
    • (5)
    • 225

    वह बालों में तीसरी बार कंघी फेर रही थी, मगर फिर भी संतुष्ट नहीं थी। एक ओर के बाल उसे उठे-उठे लग रहे थे। उसने बालों में लगा छोटा ...

    केप्ट्न स्वांग
    by Mehul
    • (8)
    • 385

    आज भी एक ओर आवकाश यान खोज ने निकला हे एक एसा ग्रह कि जो हमारी धरती (प्रुथ्वी) का स्थान ले सके। हमने विज्ञान मे बहुत प्रगती कर लि ...

    मासूम बच्चों का क्या क़सूर
    by bhai sahab chouhan
    • (4)
    • 202

    क्या लिखूँ, क्या बताऊ, कुछ समझ नहीं आताजब नजरें जाती उन मासूम बच्चों परजो पढ़ना तो चाहते हैं पर पढ़ नहीं पातेइन ज़ालिम पैसो कि वजह से..जब देखता हु ...

    1 - जब हम शिकार पर गये, 2 - जंगल की शैर
    by Neerja Dewedy
    • (13)
    • 302

                                                    ( अ )      ...

    मेरी डायरी
    by ARYAN Suvada
    • (10)
    • 276

    हेलो दोस्तो एक बार फिरसे आपके सामने हाजिर हु आपका अपना दोस्त आर्यन । आप सभी से एक सवाल करना चाहता हूं कि क्या समय यात्रा संभव है? तो ...

    गलती किसकी?
    by Neetu Singh Renuka
    • (13)
    • 192

    उफ्‌ इतनी गर्मी में ट्रेन खड़ी कर दी। आदमी, आदमी की तरह नहीं भेड़-बकरी की तरह ठूँसा पड़ा है, एकदम दम साधे कि अपना-अपना स्टेशन आए और मुक्ति मिले, ...

    चितकबरे बैंड का रहस्य - 4
    by Sir Arthur Conan Doyle
    • (49)
    • 1.3k

    उसने अलमारी को थपथपाते हुए पूछा “ इसमें क्या है ?” “मेरे सौतेले पिता के व्यावसायिक कागज़ात ” “इसका मतलब है कि आपने उन्हें अन्दर से देखा है ?” “कुछ साल ...

    खानाबदोश ज़िन्दगी
    by Neetu Singh Renuka
    • (9)
    • 216

    पुरानीकॉलोनी के पार्क में वे दोस्तों के साथ खेल रहे थे कि मुझे देख सब छोड़-छाड़, अंजना और अंशु, दौड़कर मुझसे लिपट गए। दोनों को पता है, कुछ न ...

    गार्जिलियन का साम्राज्य
    by Nikhil chakrani
    • (40)
    • 701

    गार्जिलियन का साम्राज्यइंसानी दुनिया के बीच मैं एक खुशखुशाल ज़िंदगी जी रही और ब्रेकप के गम को भूलनेके लिए अपने आलीशान पैलेस मैं पार्टी कर रही रिवाना अपनी ही ...

    कहाँ है इंसानियत ?
    by bhai sahab chouhan
    • (22)
    • 383

    आज सर्दी बहुत थी मैंने सोचा थोड़ा धूप लेकर आता हु. मै बगीचे के पास जाकर बैठ गया बगीचे मे बहुत लोग थे वो भी सर्दी का आंनद ले ...

    खाने को नहीं मिला
    by Neetu Singh Renuka
    • (18)
    • 492

    दीवार पर स्टाफ सलेक्शन कमीशन द्वारा सालाना जारी इम्तहानों की टेप से चिपकाई लिस्ट थी और उस दीवार से चिपके टेबल पर एक ओर आर.एस. शर्मा, अरिहंत और अग्रवाल ...