इश्क़ आख़िरी - 20 Harshali द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इश्क़ आख़िरी - 20

आकाश और अमृता के बीच ये सब जो हो रहा था , इस सबको शब्दों में बयां करना उन के लिए मुश्किल था । लेकिन हां उन दोनों के बीच एक अनोखा रिश्ता जरूर बन रहा था ।




कुछ देर बाद , आकाश ने एक ढाबे के बाहर कार खड़ी करदी । " "तुम्हे भूख लगी होगी ना , कुछ खा लो ",आकाश ने कहा । कुछ खा लो मतलब ? तुम्हे नही खाना ?", अमृता ने सवाल करते हुए कहा । "नहीं, मुझे पता नही क्यों भूख नहीं लग रही , शायद रोज़ की हैबिट हो चुकी है बारा / एक बजे डिनर करने की , लेट हो जाता है रोज डिनर करने के लिए , ऑफिस से देर से आता हूं ना घर इसलिए होगा , लेकिन तुम खालों ना , अगर तुम कहती हो तो तुम्हारे लिए यही ले आता हूं कुछ ", आकाश ने कहा । "अरे नहीं नही, मुझे भी भूख नहीं है ,बाद मैं देखेंगे और वैसे भी घर पर तो खाना होगा ही ना ", अमृता ने कहा । ठीक है आकाश ने कहा और उसने गाड़ी स्टार्ट की । " अब हम कहा जा रहे है ? ",अमृता ने आकाश से पूछा । "तुम अपनी आंखों से ही खुद ही देख लो , तुम्हे वो जगह बहुत पसंद आएगी ", आकाश ने अमृता की और देखते हुए कहा ।




कुछ देर बाद आकाश ने कार रोक दी और अमृता को उतरने का इशारा किया । "ये कौन सी जगह है ? ",अमृता ने आकाश से सवाल करते हुए कहा । "ये दशाश्वमेध घाट है ",आकाश ने जवाब दिया । आकाश और अमृता उस घाट के किनारे बैठ गए । पसंद आया ? आकाश ने पूछा । हां बहुत सुंदर है मुझे तो ये पूरा बनारस ही बहुत अच्छा लगा, वैसे आप लोग बहुत लकी है की आप बनारस जैसे इतने खूबसूरत शहर में रहते है , आप तो यहां कभी भी आ जा सकते हो ",अमृता ने कहा । " तुम एक काम करो तुम ना अपना घर बनारस में ही बसालो , मतलब बनारस के लड़के से शादी करो , फिर तुम्हे वो रोज बनारस घूमने लेके जायेगा " ,आकाश ने अमृता से हंसते हुए कहा । आकाश की ये बात सुनकर अमृता ने कुछ भी रिएक्ट नहीं किया , अमृता का ऐसे कोल्ड सा रिएक्शन देख कर आकाश ने पूछा , "क्या हुआ ? मैने कुछ गलत कह दिया क्या ?" नहीं नहीं इस मैं क्या गलत , तुम्हारे बात मैं पॉइंट तो है , अमृता ने जवाब देते हुए कहा । तुम्हे पता है मुझे प्यार पर बहुत विश्वास है लेकिन कभी कभी ऐसा लगता है की प्यार सच में होता है या फिर ये सब बस कहानियों में ही देखने को मिलता है ! ",अमृता ने आकाश से कहा । "ऐसा क्यों बोल रही हो , आज मैने घर में कहा था की प्यार एंड ऑल कुछ नही होता तब तुमने तो बड़े विश्वास के साथ कहा था की प्यार होता है ",आकाश ने अमृता से कहा । "हां मतलब हमे प्यार पर तब विश्वास होता है जब हमे कोई प्यार करने वाले इंसान मिल जाता है , मुझे अभी तक ऐसा कोई भी मिला नहीं है , बस ये प्यार की कहानियां पढ़ती आईं हूं , और ये पढ़कर प्यार एक्सिस्ट करता ये पता चला लेकिन ये बातें साबित कर सके ऐसा कोई शख्स नहीं मिला अभी तक ", अमृता ने आकाश से कहा ।




" अच्छा तो फिर बताओ कैसा लड़का चाहिए तुम्हे जिसके साथ तुम अपनी पूरी जिंदगी बिताना चाहती हो ?",आकाश ने अमृता से पूछा । मुझे कोई ऐसा लड़का चाहिए जो मेरे फीलिंग्स को समझे मेरी रिस्पेक्ट करे , मुझे खुद से भी ज्यादा चाहे , उसके आंखो मैं सिर्फ मेरे लिए प्यार हो , अगर मैं कभी रूठ जाऊ तो वो मुझे प्यार से मनाए , अगर कभी रोने लगी तो मुझे अपने बाहों में भरके मेरे बालों मैं प्यारा से हाथ फेरे ❣️ जो मुझे अपनी बेस्ट फ्रेंड समझे और मेरे साथ सारी बाते शेयर करे वो भी बिना डरे , ऐसा कोई जो मेरे शरीर से नही बल्कि मेरे दिल से प्यार करे , में जैसे हूं वैसे ही मुझे एक्सेप्ट करे , जो हर सिचुएशन में मेरा साथ दे , जो मेरी नही, बल्कि हर एक लड़की की इज्जत करे , जो मेरी बातों को मेरी आंखों से ही समझ ले , वो जो मुझ से बेइंतेहान महोब्बत करे ,और भी बहुत कुछ है जो एक सक्सेसफुल लव स्टोरी के लिए इंपोर्टेंट होता है ", अमृता ने आकाश से कहा ।" हम्म् , और पैसे उसका क्या। ? तुम्हे रिच लड़का नहीं चाहिए क्या ? तुम्हारी ऐसी एक्सपेक्टेशन नहीं है , की लड़का अमीर घर से हो ?",आकाश ने सवाल करते हुए कहा । " नहीं, इस मैं अमीर या गरीब से क्या लेना देना है ! ", अमृता ने सवाल करते हुए कहा । " आई मीन सभी लड़कियों की ये एक्सपेक्टेशन होती है की लड़का अमीर हो , तो वैसी एक्सपेक्टेशन तुम्हारी नहीं है ?",आकाश ने सवाल करते हुए कहा । " नहीं मुझे इससे कोई फर्क नही पड़ता , और सभी लड़कियों की एक्सपेक्टेशंस एक जैसी नहीं होती ना , सभी लोग एक जैसे नहीं होते , हम पैसों से प्यार नहीं खरीद सकते खुशियां नहीं खरीद सकते , और रहा सवाल पैसों का तो जब दो प्यार करने वाले एक दूसरे का हाथ थाम लेते है ना , तब वो कोई भी सिचुएशन को फेस कर सकते है , कोई भी प्रॉब्लम फेस कर सकते है, और साथ मैं हार्ड वर्क करके अमीर भी बन सकते है ",अमृता ने एक स्माइल के साथ आकाश से कहा ।




आकाश अमृता की बाते बस सुने जा रहा था , वो मानो अमृता की आंखो मैं उसकी बातों मैं खो सा गया था । " क्या हुआ , ऐसे क्यों देख रहे हो ? ",अमृता ने सवाल करते हुए कहा । "नहीं कुछ नही , मैने आज से पहले तुम्हारी जैसी लड़की नही देखी ",आकाश ने कहा । "मेरी जैसी मतलब ? अमृता ने सवाल करते हुए आकाश से पूछा। " मतलब प्यार को इस नजर से देखने वाली , प्यार पर इतना विश्वास रखने वाली , इतनी खूबसूरत . . . आकाश बोलते बोलते रुक जाता है। " इतनी खूबसूरत क्या , आगे कहो , बात को ऐसे बीच में अधूरा नहीं छोड़ा करते ",अमृता ने आकाश की और देखते हुए कहा । वो . . वो. . मेरा मतलब था की इतनी खूबसूरत बाते करने वाली लड़की पहली बार देखी है ",आकाश ने नजरे चुराते हुए कहा । " वैसे तुम्हे पता है मैने भी तुम जैसा लड़का ना पहली बार देखा है ",अमृता ने आकाश की आंखो मैं देखते हुए कहा। " मतलब कैसा ? बोरिंग टाइप ? आकाश ने सवाल किया । "नहीं नहीं तुम बोरिंग कहा हो , इन फेक्ट तुम्हारे साथ वक्त बहुत जल्दी गुजर जाता है , तुम बोरिंग नहीं हो तुम अपने काम को लेकर बहुत ही सीरियस हो , तुम्हारे मुताबिक सब कुछ प्लानिंग के हिसाब से होना चाहिए , तुम बहुत ज्यादा डिसिप्लिन फॉलो करते हो , और मोस्ट इंपोर्टेंट बात ये है की तुम अपने परिवार से बहुत प्यार करते हो पर इन सब बातों मैं खुद को भूल जाते हो , अब ये क्वालिटीज वाला लड़का कभी बोरिंग हो सकता है भला ? , अमृता ने आकाश से कहा । "तुम बहुत कुछ जान गई मेरे बारे में , इतना तो मुझे भी अपने बारे में नही पता था ",आकाश ने अमृता से कहा । आकाश के इस बात पर अमृता बस मुस्कुरा दी ।



रेट व् टिपण्णी करें

Rupa Soni

Rupa Soni 3 महीना पहले