इश्क़ आख़िरी - 16 Harshali द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इश्क़ आख़िरी - 16

ये सब प्यार की कहानियां ये हमारी इमेजनरी दुनिया है जो हमने क्रिएट की है ये लव स्टोरीज , सीरियल्स एंड मूवीज देख कर , असल जिंदगी मैं ये सब नहीं होता अमृता , , आकाश ने अमृता से कहा ।




नहीं ये सब असल जिंदगी मैं भी होता है , तुम्हे जब किसी से प्यार होगा ना तब तुम्हे पता चलेगा , अमृता ने कहा । हम प्लीज ये टॉपिक क्लोज करते है ना अमृता खाना ठंडा हो रहा है ना आकाश ने अपनी नजरे अमृता से छुपाते हुए कहा । लेकिन शायद अमृता समझ गई थी की कुछ तो बात है । अमृता ने टॉपिक चेंज करते हुए कहा , वाह . . . खुशबू तो बहुत अच्छी आ रही है , लेकिन टेस्ट में भी तो अच्छा होना चाहिए ना ! । आकाश ने अमृता की इस बात पर बस एक स्माइल दे दी । शायद मैंने कुछ ज्यादा ही कह दिया , लेकिन मैंने क्या गलत कहा ! आकाश का मूड सच में ऑफ हुआ है , अमृता ने मन में ही सोचा । आकाश , देखो वैसे भी आज रात तक तो कोई भी आने वाला नही है , घर में बैठे बैठे हम दोनों बोर हो जायेंगे ना , तो क्यों ना तुम मुझे शाम को बनारस देखने के लिए . . . अमृता ने अपनी बात पूरी भी नही की थी तभी अमृता की बात को काट कर आकाश बोला , तुम्हे . . . तुम्हे बनारस देखने जाना है शाम को ! में हूं ना मैं लेके जाऊंगा तुम्हे , रात मैं डिनर भी बाहर ही करेंगे आकाश खुश हो कर झट से बोल पड़ा । ठीक है नो प्रॉब्लम , जैसा तुम कहो अमृता ने भी आकाश से कहा । थैंक गॉड, इसका मूड तो ठीक हुआ , इसके चेहरे पर स्माइल तो आई, अमृता ने मन में सोचा । अब चलो खाना खाके बताओ की कैसा बना है , आय एम श्योर की लाजवाब ही हुआ होगा अखिरखार बनाया किसने है " द आकाश व्यास " सॉरी " द मास्टरशेफ आकाश व्यास " आकाश ने एक्टिंग करते हुए कहा । ठीक है ठीक है मैं टेस्ट करके देखती हूं , कहकर अमृता ने एक निवाला लिया । अरे वाह बहुत टेस्टी बना है खाना , इट्स अमेजिंग ! तुम भी खाओ ना , तुम क्यों नहीं खा रहे ? अमृता ने आकाश के थाली की और इशारा करते हुए कहा । अरे हा खाता हूं ना , वो मैने खास तुम्हारे लिए बनाया है ना ,तो जब तक तुम नही खाती मैं कैसे खा सकता हूं ? आकाश ने कहा । तुम्हारे और क्या क्या अपने अपने लॉजिक है ? मतलब इस में भी कुछ लॉजिक है भला ? ? कुछ भी लॉजिक होते है तुम्हारे। चलो खालों अब चुपचाप अमृता ने आकाश से कहा। आकाश ने एक निवाला खाया , अमृता तुम कैसे खा रही हो ये खाना , इसमें तो टेस्ट ही नहीं है आकाश ने मुंह बनाते हुए कहा । वही अमृता इस सब से परे अपना खाना खाने में बिजी थी । आकाश ने अमृता से फिर से पूछा , अमृता ! आय एम सॉरी खाना अच्छा नहीं बना ना , आकाश ने उदास होते हुए कहा । किसने कहा ? मैने बताया ना की अच्छा बना है अमृता ने आकाश की और देखते हुए कहा । नही तुम झूठ बोल रही हो क्योंकि मुझे बुरा ना लगे , मुझे बताना चाहिए था ना की खाना अच्छा नहीं बना है ,आकाश ने कहा । ठीक है , इट्स ओके , होता है ऐसे कभी कभी , और तुमने तो आज पहली बार की किचन मैं कदम रखा था , और मोस्ट इंपोर्टेंट बात तुमने ये प्यार से बनाया है ना मेरे लिए ! अमृता ने आकाश की आंखो मैं देखते हुए कहा । हां , लेकिन . . . . अमृता ने आकाश की बात को काटते हुए कहा , अब बस लेकिन वकिन कुछ नहीं चुप चाप खाना खाओ , फिर हमे शाम को बनारस देखने भी तो जाना है ना , और हा और एक मोस्ट इंपोर्टेंट बात तुम्हे जो कुछ भी कॉल्स एंड मेल करने है ना वो अभी करो , अगर शाम को बनारस देखने के वक्त तुमने एक भी कॉल अटेंड किया ना तो देख लेना फिर , बता रही हूं , और हा तुम्हारा फोन स्विच ऑफ होना चाहिए , अमृता ने आकाश से कहा । ठीक है इस बात का खास ध्यान रखूंगा , तुम जाओ अब रेस्ट करो अपने रूम में जाके में भी कुछ इंपोर्टेंट कॉल्स करता हूं ,आकाश ने कहा । ओके , मैं अपने रूम में हूं , अगर कुछ चाहिए हो तो मुझे बताना , ये बोलकर अमृता वहा से अपनी रूम की और चली गई ।

आकाश जाती हुई अमृता को देख कर सोचता है , तुम्हारा ये यूं मुझ पर हक़ जताना अच्छा लगता है ! आकाश ने मन मैं ही कहा और मुस्कराने लगा ।

कुछ देर बाद अमृता की नींद खुली और वो रूम में बाहर आई , उसने ऊपर से ही देखा की आकाश लैपटॉप पर काम करते करते ही सो गया है । सोते हुए आकाश इतना क्यूट और मासूम लग रहा था की अमृता खुद को रोक नहीं पाई । अब इस बार अमृता के कदम आकाश की और बढ़ रहे थे ।

में इसको उठा दूं क्या , हमे जाना भी तो है , और रेडी भी तो होना है , नहीं रहने देती हूं वैसे भी बिचारा बहुत थक गया होगा , पहले मैं रेडी होती हूं , उसके बाद आकाश को उठाती हूं , अमृता ने अपने आप से ही कहा । अमृता ने आकाश का हाथ लैपटॉप पर से धीरे से हटाया , लैपटॉप अपने हाथों मैं उठाया और बंद कर के साइड टेबल पर रख दिया । अमृता ने लैपटॉप उठाते वक्त रियलाइज किया की हॉल में एसी चालू होने के वजह से बहुत ही ठंड है और उस वजह से अमृता को आकाश का हाथ भी बहुत ठंडा लग रहा था । अमृता अपने रूम में गई और नीचे आकर आकाश को कंबल ओढ़ा कर फिर से अपने रूम मैं तैयार होने के लिए चली गई ।



रेट व् टिपण्णी करें

Rupa Soni

Rupa Soni 3 महीना पहले

Preeti G

Preeti G 3 महीना पहले