इश्क़ आख़िरी - 14 Harshali द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

इश्क़ आख़िरी - 14

यही अमृता जी की आगे के बाद मेरे वजह से तुम्हारे आंखो मैं कभी भी आसू नही आयेंगे , , आकाश ने सीरियस हो कर अमृता से कहा ।

इस बात पर अमृता सिर्फ मुस्कुरा दी । वैसे तुमने बताया नही की कल रात मैं मेरे रूम में कैसे आई, में तो तुम्हारे साथ नीचे थी और तभी मेरी आंख लग गई अमृता ने आकाश से कहा । वो अमृता मैने ही तुमको तुम्हारे रूम में सुलाया था , मैने तुम्हे आवाज भी लगाई थी लेकिन शायद उस मेडिसिन का असर कुछ ज्यादा ही हुआ था , आकाश ने अमृता से कहा । हम्म्म ,ठीक है ,थैंक यू अमृता ने आकाश से कहा । अब क्या करना है ? आकाश ने कहा । अभी खाना बनाना है , में कुछ बना लेती हूं लंच के लिए , बताओ क्या खाओगे ? अमृता ने आकाश से पूंछा । अमृता तुम क्यों खाना बना रही हो ? बाहर से कुछ ऑर्डर कर देते है ना , तुम रेस्ट करो आकाश ने फोन निकलते हुए कहा । अरे नही नही तुम ऑर्डर मत करना , फोन रखो अपना पहले , फोन रखो, देखो मैं इतना भी बुरा खाना नहीं बनाती हूं , अगर मेरे हाथ का खाना खाकर देखोगे ना तो बाहर वाला खाना भूल जाओगे और वैसे भी हम दोनों के लिए ही तो बनाना है ना , डोंट वरी आय विल मैनेज अमृता ने आकाश से कहा । और किचन की और चली गई ।
आकाश भी किचन के सामने हॉल में इस तरह बैठ गया की जहा से अमृता दिख सके । उसने लैपटॉप ओपन किया और मेल चेक करने लगा । वहा अमृता किचन में झटपट खाना बना रही थी । इतने साल में में समझ नही पाया की कौनसी चीज़ कहा रखी है और इसको सब कुछ झट से कैसे मिल रहा है, आकाश ने मन में ही सोचा । उसने लैपटॉप बंद किया और अमृता की और चलते लगा । वो दीवार को लगकर खड़ा हो गया और अमृता की और देखने लगा , इस सबसे अंजान अमृता खाना बनाने मैं बिजी थी । अमृता मैं तुम्हे कुछ मदत कर देता हूं , आकाश ने आगे जाते हुए कहा । नहीं मत करो अमृता ने जवाब दिया । अमृता जी मैं आपसे पूछ नही रहा, बता रहा हूं की में आपकी मदत कर देता हूं , अब बताओ जल्दी क्या करना है , आकाश ने कहा । अरे क्या करोगे यहा तुम , तुम्हे कुछ आता भी है कुकिंग में से ? अमृता ने आकाश को ताना मारते हुए कहा । एक मिनट , होल्ड ऑन , तुम . . . तुम मुझे ताना मार रही हो ? अंडरेस्टीमेट कर रही हो मुझे ? आकाश ने अपने हाथ फोल्ड करते हुए कहा । तभी आकाश को एक कॉल आ जाता है , में अभी आया , फिर बात करेंगे इस पर ये बोलकर आकाश वहा से चला जाता है । आकाश बाहर हॉल में कॉल पर किसे से बात कर रहा होता है , अमृता आकाश की और देखती है और सोचती है , कोई इतना परफेक्ट कैसा हो सकता है ! और ये जब मेरे करीब होता है तो एक अजीब एहसास होता है मुझे , इसका साथ होना मेरे करीब होना मेरे साथ बात करना मेरे मन को एक सुकून सा दे जाता है । एक पॉइंट पर तो ऐसा लगता है की अब बस और कुछ नहीं चाहिए मुझे मेरी लाइफ मैं , सब कुछ पा लिया मैंने , ये ऐसा क्यों हो रहा है मुझे ! ये न्यू फीलिंग है जिसको मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकती , इस थिस लव और अट्रैक्शन , मुझे नहीं पता लेकिन , ये जो कुछ भी है ना बहुत खूबसूरत है बिलकुल एक सपने जैसा । अमृता ये सब सोच ही रही होती है तभी उसकी उंगली प्याज काटते समय कट जाती है और उसके मुंह से आह ... निकल जाती है । आकाश पीछे मुड़कर देखता है तो , वो फोन डिस्कनेक्ट करता है और अमृता की और दौड़ता है । ये क्या करती हो तुम ध्यान किधर रहता है तुम्हारा ? आकाश ने अमृता का हाथ अपने हाथ में पकड़ा , और अपने रुमाल से अमृता के हाथ में जो खून था वो साफ करने लगा , आकाश का पूरा ध्यान अमृता के हाथ पर था , तो अमृता की नजरे आकाश के चेहरे पर से हट ही नहीं रही थी , अंजाने मैं अमृता के चहरे पर एक स्माइल आ जाती है । तुम एक काम करो मुझे बताओ हल्दी कहा पर रखी है , आकाश ने अमृता से पूछा । देखो उस ड्रावर में , अमृता ने ड्रावर की और जाते हुए कहा । अरे मेरी माँ तुम रुको ना यहा , मैने कहा तुम्हे वहा जाने के लिए तुम सुनती क्यों नहीं हो मेरी ! आकाश ने हल्दी का डिब्बा खोलते हुए कहा । आकाश ने अमृता के हाथ पर जहा उसको चाकू लगा था वहा हल्दी लगाई । हल्दी लगाते ही अमृता के मुंह से फिर से एक बार आह निकल गई , आकाश ने देखा , तो उसके हाथ पर हल्दी लगाते लगाते फूंक भी मारने लगा , तुम्हे ज्यादा पैन हो रहा है क्या ? आकाश ने नम आवाज मैं कहा । हो रहा था दर्द लेकिन अब कम है अमृता ने आकाश की आंखो मैं देखते हुए कहा । तुम सुनती क्यों नही हो मेरी बात ? मैने कहा था ना की बाहर से कुछ ऑर्डर कर देते है , लेकिन नही तुम्ही मास्टरचेफ बनना था ना आज , और देखो तुमने क्या कर दिया , आकाश ने थोड़ी ऊंची आवाज मैं अमृता से कहा । अब ठीक है ना हो जाता है ये कभी कभी , और तुम मुझे ऐसे चिल्लाओ मत , अमृता ने मुंह बनाते हुए कहा । देखो मैं चिल्ला नही रहा मुझे बस तुम्हारी फिक्र हुई इसलिए बोल रहा था , अब तुम कुछ काम मत करना और अभी कुछ देर पहले मुझे अंडरेस्टीमेट कर रही थी ना की में खाना नहीं बना सकता अब देखो मैं तुम्हे खाना बनाके दिखाता हूं ।

रेट व् टिपण्णी करें

Preeti G

Preeti G 3 महीना पहले