बरसात के दिन - 10 Abhishek Hada द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

बरसात के दिन - 10

Abhishek Hada मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी प्रेम कथाएँ

बरसात बहुत तेज हो चुकी थी। आदित्य कुछ ही सेकिंड में पूरा गीला हो गया। पर उसे इस सब की कोई फिक्र नही थी। उसका ध्यान केवल दिशा को ढूंढने में था। लेकिन वो उसको कहीं नही मिल रही ...और पढ़े