बरसात के दिन - 8 Abhishek Hada द्वारा प्रेम कथाएँ में हिंदी पीडीएफ

बरसात के दिन - 8

Abhishek Hada मातृभारती सत्यापित द्वारा हिंदी प्रेम कथाएँ

उसी समय बरसात शुरू हो गई। उसने अपने रूम की खिड़की खोल दी। ठंडी ठंडी बरसात की फुहारे उसके कमरे में आने लगी। उसी समय वहां से साइकिल पर एक आदमी रेनकोट में मोबाइल पर एफएम में गाने सुनता ...और पढ़े