હુ ખુદ ની જ ખોજ માં છુ

हमे तो पसंद हे खामोशि हमारी
इस दर्द को सरेआम करना नहीं चाहते..
हमारा हे तो हम तक हि रहे
इसे सबको बताकर शर्मिन्दा करना नहीं चाहते..
Bhumi patel

और पढ़े

जिंदगी मे हम हर तरह के किरदार नीभाते हे
किस्मत हमे बार बार कथपूतलि कि तरह नचाति हे
हमरि खुशियो से क्यु जलती हो इतना..
जो हमारे अरमानो को बार बार जलाके राख करते हो
bhumi patel

और पढ़े

आप मत कहो किसिको के बात करे आपसे
बनालो खुद को इतना "काबिल" के लोग
तरस जाये आपको ऐक ज़लक देखने को
bhumi patel

अगर वो कह देत बात.. हमे अकेले मे तो युहि
हमे यु गजल बनाकर..
सबको बता ना नहीं पड़ता
bhumi patel