Hey, I am on Matrubharti!

Bhavna कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी माइक्रो फिक्शन
6 दिन पहले

जब कोई कदर करना भूल जाये तो तुम सब्र कर लेना बात अपने आप संभल जाएगी

Bhavna कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी सुविचार
1 सप्ताह पहले

हर परिवार हर रिश्ते का अपना महत्व है मां,बाप,भाई,बहन,दादा,
दादी ,
मगर इस सब में सबसे खूबसूरत और प्यारा रिश्ता होता है एक बाप और बेटी का
क्यूंकि पिता ही वह शख्स है जिसकी छाया में खुद को महफूज पाती है,
खुद की जरूरत को तक नज़रअंदाज कर जाता है वो पिता बेटी की ख्वाहिश पूरी करना ज्यादा जरुरी समझता है,
वो जो बात-बात पर रो देती है वक्त आने पर पिता की हिम्मत बन जाती है वो बेटी है अपने पिता को सबसे ज्यादा जानती है,
हर दुख हर परेशानी भूल जाता है जब बेटी की मुस्कान देखता है वो पिता है बेटी की मुस्कान में ही खुदा पाता है,
वो जो हर बात पर लडती है, अपनी हर बात मनवाती है, पर घर वक्त पर आ जाती है वो बेटी है पिता की बात का मान रखना जानती है,
हर मुसीबत का अकेले सामना कर जाता है,
वो पिता है अपनी बेटी को परेशान कहां देख पाता है,

और पढ़े
Bhavna कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
1 सप्ताह पहले

जिम्मेदारीया अगर वक्त से पहले निभानी पड जाए तो समझ लेना जिंदगी कुछ बहुत खूबसूरत सीखना चाहती है।

Bhavna कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
4 महीना पहले

आज मुद़तो बाद कुछ लिखने का मन हुआ है,
अहसास अभी भी जींदा है इस दिल में यह महसूस हुआ है, भूली तो नहीं थी इस अलफाजो की दुनिया को मगर, आज फिर इन अलफाजो को इस दुनिया से बांटने का मन हुआ है......

और पढ़े
Bhavna कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शुभ संध्या
7 महीना पहले

कैसे इजाज़त दे दूं इस दिल को किसी और को चाहने की जीसने कभी बेइंतहा मोहब्बत की थी तुमसे.....

Bhavna कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शायरी
8 महीना पहले

यह दिल केहकर भी ना कह पाया
वह दिल समझकर भी ना समझ पाया

तो
मान लिजीए प्यार सच्चा तो था पर अधूरा रह गया......

Bhavna कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
9 महीना पहले

अगर इरादे मजबूत हो तो रास्ते में आनेवाली हर मुश्किलें भी मंजिल की ओर का सफर आसान करती है.....

Bhavna कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी शुभ रात्रि
9 महीना पहले

इस जवानी से तो बचपन ही अच्छा था,
जो भी था,जैसा भी था, कम से कम सच्चा था,
जूठ और दिखावे की इस दुनिया में सच भी अब झूठा सा लगता है,
अब तो इस झूठी जींदगी में एक ही पल हकीकत सा याद आता है मुझे जब मैं
बच्चा था.....

और पढ़े
Bhavna कोट्स पर पोस्ट किया गया हिंदी प्रेरक
9 महीना पहले

आजादी तो सालों पहले ही मिल गई है हमें पर अब, इस आजादी को जीना चाहती हूँ,
जिम्मेदारीयों के बंधन तो बहोत है पर अब, इन बंधनों में भी आजादी खोजना चाहती हूँ,
कहने को तो आजाद हूँ में पर अब ,सही मायने में आजाद होना चाहती हूँ......

और पढ़े

खोजते-खोजते खो गया
जो खोजता था वही हो गया..