https://twitter.com/bg_ssaini .

ख्वाब मेरा.......
काँच के जैसा था ऐ दोस्त,
ना जाने कितनों को चुभ गया✍️✍️BGSsaini

गलतियां भी होगी और ग़लत समझा भी जाएगा,
BGSsaini
"यह जिंदगी है जनाब"
यहां तारीफें भी होगी और कोसा भी जाएगा..🍁

कितने सुलझे हुए तरीके से
तुने ...
खिलाफत करने में उलझा के रख दिया सबकोBGSsaini

चेहरे बदल-बदल कर मिलते है अपनेपन का दिखावा करने वाले…. इतना बुरा सुलूक क्यूँ किसी की सादगी के साथ BGSsaini

बड़ा बाज़ार है ये दुनिया.. भरोसे के सौदे संभल के किजिए.....
मतलब के लिफ़ाफे में बेशुमार दिखावटी चेहरे मिलते है BGSsaini

और पढ़े

*अहमियत दिखावे को मिलती है ...*

*और हम हैं कि हर एक में जज्बात लिए फिरते हैं BGSsaini

अधुरी ख्वाहिशे दुख देने लगी...
तो...मैंने इनायते करनी हीं छोड़ दि खुदा से BGSsaini✍🏻

आज ख़ुदा ने तम्मननाएँ पूछी थी हमसे...BGSsaini
हमने भी ख्वाहिशों में वही पुरानी ख़्वाहिशे मांगी है✍🏻

थोड़ा बहुत शतरंज का आना भी ज़रुरी हैं साहब..
कई बार सामने वाला मोहरे चल रहा होता है..
अौर हम अपनापन निभाते रहते हैं..BGSsaini

और पढ़े


*_ज़रूरी है,_*
*_तस्वीरें लेना भी..._*

*_आईना गुज़रे हुए लम्हे,_*
*_नहीं दिखाता..BGSsaini_* ✍